Local Job Box

Best Job And News Site

रात तीन बजे सेना की जिप्सी में आग लग गई, 3 लोग जिंदा जल गए, 5 गंभीर रूप से घायल हो गए। | रात के 3 बजे सेना की जिप्सी में आग लग गई, उनमें से 3 जिंदा जल गए, 5 गंभीर रूप से घायल

विज्ञापन द्वारा घोषित? विज्ञापनों के बिना समाचार पढ़ने के लिए दिव्य भास्कर एप्लिकेशन इंस्टॉल करें

श्रीगंगानगर / बीकानेर11 मिनट पहले

  • लिंक की प्रतिलिपि करें

हादसे के बाद आर्मी जिप्सी पूरी तरह से जमीन में धंस गई थी।

  • हादसे के बाद आर्मी जिप्सी पूरी तरह से जमीन में धंस गई थी

भारत-पाकिस्तान सीमा के पास के इलाके में बुधवार-गुरुवार को अभ्यास के दौरान एक बड़ी दुर्घटना हुई। सेना की जिप्सी ने दोपहर 3 बजे के आसपास आग पकड़ी। विस्फोट में सेना के तीन जवान मारे गए। जबकि 5 जवानों की हालत गंभीर बताई जाती है। मृतकों में एक सूबेदार और दो जवान शामिल थे। हादसे के बाद आसपास के ग्रामीणों की मदद से आग पर काबू पाया गया। हादसा श्रीगंगानगर जिले के छतरगढ़ के पास हुआ।

हालांकि, दुर्घटना के कारण का अभी पता नहीं चल पाया है। शुरुआत में यह बताया गया था कि जिप्सी नहर ने पलट कर आग पकड़ ली थी। अगर ऐसा होता तो आग पानी से बुझ जाती। ऐसा माना जाता है कि युद्ध के खेल के लिए जिप्सी में बारूद और अन्य ज्वलनशील पदार्थ रखे जाते थे। इससे आग लग गई। आग इतनी तेजी से फैली कि सैनिकों को भागने का भी मौका नहीं मिला।

हादसे में तीन सैनिकों की मौके पर ही मौत हो गई।

हादसे में तीन सैनिकों की मौके पर ही मौत हो गई।

सेना ने अभी तक मृतकों के नाम जारी नहीं किए हैं। घटना के बाद से सेना के शीर्ष अधिकारी भाग रहे हैं। घायलों को सूरतगढ़ के सेना अस्पताल में भर्ती कराया गया है। तीन सैनिक मारे गए हैं। उनके परिवार के सदस्यों को इस बारे में सूचित कर दिया गया है।

जवान को बठिंडा की 47 ई। इकाई का बताया जाता है
सेना के प्रवक्ता अमिताभ शर्मा ने कहा कि रात दो से तीन बजे के बीच त्रासदी हुई। अभ्यास के तहत वाहनों में से एक सूरतगढ़-छतरगढ़ रोड पर इंदिरा गांधी नहर के आरडी 330 के पास था। तभी हादसा हो गया। तीन सैनिकों की मौके पर ही मौत हो गई। जबकि पांच अन्य घायल हो गए। उन्होंने कहा कि यह एक नियमित युद्ध खेल था, जिसके तहत सैनिकों को अलग-अलग कार्य दिए जाते हैं। यह कार्य पूरा करते समय यह दुर्घटना हुई। कहा जाता है कि सेना का जवान बठिंडा की 47 ई। ईकाई का है। वे सभी सैन्य अभ्यास के लिए सूरतगढ़ आए थे।

ग्रामीणों ने आग बुझाई
घटना की सूचना मिलते ही आसपास के ग्रामीण घटनास्थल की ओर दौड़ पड़े। उसने पहले आग पर पानी डाला और उसे बुझा दिया, हालांकि तब तक 3 सैनिक जल चुके थे। ग्रामीणों के कहने पर, राजियासर पुलिस स्टेशन से पुलिस ने मौके पर पहुंचकर पांच गंभीर रूप से घायल कर्मियों को अस्पताल पहुंचाया। तीन जवानों के शव सूरतगढ़ अस्पताल की मोर्चरी में रखवाए गए हैं।

अन्य खबरें भी है …
Updated: March 25, 2021 — 7:26 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Local Job Box © 2021 Frontier Theme