Local Job Box

Best Job And News Site

अमिताभ बच्चन और वरुण धवन के साथ काम कर चुकी सुचरिता अब मोमोज बेचकर अपना गुजारा करती हैं। | अमिताभ बच्चन और वरुण धवन के साथ काम करने वाली सुचिस्मिता अब मोमोज बेचकर गुजारा करती हैं।

विज्ञापन द्वारा घोषित? विज्ञापनों के बिना समाचार पढ़ने के लिए दिव्य भास्कर ऐप इंस्टॉल करें

मुंबई10 मिनट पहले

  • लिंक की प्रतिलिपि करें

मोमोज बेचकर सुचिस्मिता एक दिन में 300-400 रुपये कमा लेती है

  • सुचरिता राउत्रे मूल रूप से उड़ीसा की रहने वाली हैं। एक वायरस ने उसकी पूरी जिंदगी बदल दी है।
  • पिता की मौत, सुचितिता पर घर चलाने की जिम्मेदारी

कोरोना की दूसरी लहर पहली लहर से भी ज्यादा खतरनाक है। कोरोना में, कई ने अपनी जान गंवाई है, जबकि अन्य ने अपनी संपत्ति और नौकरी खो दी है। चाहे वह व्यवसाय हो या रोजगार, कई को नुकसान उठाना पड़ा है। ऐसी ही एक चीज है महिला कैमरापर्सन सुचिस्मिता राउत्रे। सुचरिता ने एक समय में अमिताभ बच्चन, आलिया भट्ट जैसे सुपरस्टार के साथ काम किया है। आज, हालांकि, वह अपने गृहनगर में मोमोज बेचकर जीवन यापन कर रही है।

सुचरिता राउत्रे मूल रूप से उड़ीसा की रहने वाली हैं। एक वायरस ने सुचिस्मिता की पूरी जिंदगी बदल दी है। पढ़ाई पूरी करने के बाद, उन्होंने साइन इंडस्ट्री में काम करना शुरू कर दिया। सुचरिमा 2015 में मुंबई आई थीं। यहां उन्होंने धीरे-धीरे काम ढूंढना शुरू किया। सुचिस्मिता ने छह साल तक सहायक कैमेरपर्सन के रूप में काम किया। हालांकि, 2020 में कोरोना आ गया और उसकी जिंदगी बदल गई।

कोरोना के कारण देशव्यापी तालाबंदी की घोषणा की गई। बॉलीवुड में व्यापार एक ठहराव पर आ गया है। तकनीकी कर्मचारियों को मातृभूमि की प्रतीक्षा करने का समय था। मुंबई में कैमरे के पीछे काम करने वाले ज्यादातर लोग अपने गृहनगर जा रहे थे। उन्होंने महसूस किया कि उन्हें अब कुछ महीनों तक मुंबई में कोई काम नहीं मिलेगा।

घर जाने के लिए पैसे नहीं थे
सुचिस्मिता ने समाचार चैनल आजतक को बताया कि वह लॉकडाउन के बाद अपने परिवार का समर्थन करने की स्थिति में नहीं थी। उसके पास अपने मूल उड़ीसा जाने के लिए भी पैसे नहीं थे। इस बार उन्हें अमिताभ बच्चन और सलमान खान की टीम से मदद मिली। इसकी वजह थी कि वह उड़ीसा जा पाई थी।

कटक में सड़क पर मोमोज बेचता है
सुचिता के पिता का निधन हो चुका है। वह और उसकी मां परिवार में हैं। मुंबई से कटक आने के बाद, बड़ा सवाल था कि सुचिस्मिता पर घर कैसे चलाया जाए। एक समय सुचरिता कैमरे के पीछे अपनी कला दिखा रही थी। आज वह सड़क पर मोमोज बेचकर रोजाना 300-400 रुपये कमा रही है।

लौटने की कोशिश की, लेकिन असफल रहे
तालाबंदी में सुचिता की हालत बिगड़ गई। उसकी सारी बचत समाप्त हो गई। वह काम पाने की कोई उम्मीद नहीं देखता है। उन्होंने बॉलीवुड में वापसी करने की कोशिश की, लेकिन सफलता नहीं मिली।

अन्य खबरें भी है …
Updated: March 26, 2021 — 7:30 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Local Job Box © 2021 Frontier Theme