Local Job Box

Best Job And News Site

इंग्लैंड ने पहले 35 ओवरों में भारत की तुलना में 62% अधिक रन बनाए, छठा गेंदबाज विकल्प नहीं होने पर भी महंगा | इंग्लैंड ने पहले 35 ओवरों में भारत की तुलना में 62% अधिक रन बनाए, जिसमें छठे गेंदबाज का विकल्प नहीं था, लेकिन लागत थी

विज्ञापन द्वारा घोषित? विज्ञापनों के बिना समाचार पढ़ने के लिए दिव्य भास्कर एप्लिकेशन इंस्टॉल करें

पुणे6 मिनट पहले

  • लिंक की प्रतिलिपि करें

इंग्लैंड ने दूसरे वनडे में टीम इंडिया को 6 विकेट से हराकर तीन मैचों की सीरीज 1-1 से बराबर कर ली। जॉनी बेयरस्टो और बेन स्टोक्स की पावर हिट के आगे भारत का 336 रन का स्टैंड भी औसत दर्जे का रहा। भारत की हार के पीछे 6 महत्वपूर्ण कारक थे, जिसमें बल्लेबाजों की धीमी बल्लेबाजी, स्पिनरों की विफलता, छठा गेंदबाज विकल्प नहीं होना शामिल था।

6. टीम इंडिया सही लक्ष्य का अनुमान नहीं लगा सकी
एकदिवसीय क्रिकेट में, 325 से ऊपर की कुल राशि को आमतौर पर विजेता कुल माना जाता है। हालांकि, यह मौजूदा विश्व चैंपियन इंग्लैंड पर लागू नहीं होता है। इंग्लैंड ने भले ही पहले वनडे में चौका लगाया हो, लेकिन यह नहीं भूलना चाहिए कि एक समय उनका स्कोर 14 ओवर में 135 रन था। वे वर्तमान में 300+ के लक्ष्य का पीछा करने वाली दुनिया की सबसे सफल टीम हैं।

5. अंतिम ओवरों में हिट करने की योजना
लगातार दूसरे मैच में, भारत ने शुरुआती 30-35 ओवरों में बल्लेबाजी और विकेट बचाने पर ध्यान केंद्रित किया। 17 ओवर में भारत का स्कोर 173/3 था। इसी कारण से, अंतिम 15 ओवरों में 163 रन बनाने के बावजूद, भारत केवल 336 रन ही बना सका। दूसरी ओर इंग्लैंड ने पहले 35 ओवर में 281 रन बनाए। भारत की तुलना में 62% अधिक है। इंग्लिश टीम शुरू से ही पावर हिटिंग है, इसलिए उन्हें बड़े स्कोर का पीछा करने में कोई समस्या नहीं है।

4. दोनों स्पिनर विफल रहे
पहले वनडे की तरह, इस मैच में भारतीय टीम ने कुलदीप यादव और क्रुणाल पांड्या के साथ खेला। लेकिन दोनों असफल रहे। कुलदीप ने 10 ओवर में 84 रन बनाए, जबकि क्रुनाल ने 6 ओवर में 72 रन बनाए। दोनों में से किसी को भी विकेट नहीं मिला। दोनों स्पिनरों की असफलता ने भारत को मंहगा कर दिया।

3. छठा गेंदबाज कोई विकल्प नहीं था
भारतीय टीम में हार्दिक पांड्या शामिल थे, लेकिन उन्होंने गेंदबाजी नहीं की। तब कप्तान विराट कोहली ने कहा कि टीम प्रबंधन भविष्य के लिए पांड्या को फिट रखना चाहता था। इसलिए इसका कार्यभार प्रबंधित किया जा रहा है। इस प्रकार, भारत के पास छठे गेंदबाज का विकल्प नहीं था और केवल धोखेबाज गेंदबाजों को ही गेंदबाजी करनी थी।

2. विराट की खराब कप्तानी
इंग्लैंड की पारी के 36 वें ओवर में भुवनेश्वर कुमार ने बेन स्टोक्स को आउट किया। 37 वें ओवर में प्रसीदवा कृष्णा ने जॉनी बेयरस्टो और जोस बटलर को आउट किया। उस समय, इंग्लैंड को 50 और रन चाहिए थे और अगर एक या दो विकेट गिरते, तो खेल वापस लौट सकता था। हालांकि, विराट ने दोनों गेंदबाजों को आउट किया और कुलदीप-क्रुनाल को दिया। दोनों ने फिर से गोल किया और भारत की जीत की आखिरी उम्मीद धराशायी हो गई।

1. बेयरस्टो और स्टोक्स की सबसे शानदार बल्लेबाजी
जॉनी बेयरस्टॉ ने 112 गेंदों पर 124 रन बनाए। जबकि बेन स्टोक्स ने 52 गेंदों पर 99 रन बनाए। दोनों ने मिलकर कुल 17 छक्के जड़े। भारतीय बल्लेबाजों पर विदेशी बल्लेबाजों का ऐसा पावर-हिटिंग बल्लेबाजी दुर्लभ है। इन दो बल्लेबाजों को दिखाएं कि इंग्लैंड क्यों विश्व चैंपियन टीम है। भारतीय टीम के पास उनकी आक्रामक बल्लेबाजी का कोई जवाब नहीं था।

अन्य खबरें भी है …
Updated: March 27, 2021 — 7:20 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Local Job Box © 2021 Frontier Theme