Local Job Box

Best Job And News Site

30 और 40 के बीच सीटी मान वाले मरीजों को नकारात्मक के रूप में दिखाया गया है, ताकि संक्रमण की संख्या में वृद्धि न हो। | 30 और 40 के बीच सीटी मान वाले मरीजों को नकारात्मक के रूप में दिखाया गया है, ताकि संक्रमण की संख्या में वृद्धि न हो।

  • गुजराती न्यूज़
  • राष्ट्रीय
  • 30 और 40 के बीच सीटी मान वाले मरीजों को नकारात्मक के रूप में दिखाया जाता है, ताकि संक्रमणों की संख्या में वृद्धि न हो।

विज्ञापन द्वारा घोषित? विज्ञापनों के बिना समाचार पढ़ने के लिए दिव्य भास्कर एप्लिकेशन इंस्टॉल करें

भोपाल17 मिनट पहले

  • लिंक की प्रतिलिपि करें
  • शहर मूल्य शरीर में वायरस लोड का एक उपाय है
  • भोपाल में कोरोना मामलों की बढ़ती संख्या को कवर करने के लिए घोटाले बताए जा रहे हैं

भोपाल में, इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) के दिशानिर्देशों की अवहेलना में 30 से अधिक और 40 से कम सीटी (साइकल दहलीज) वाले रोगियों को कोरोना नकारात्मक दिखाया जा रहा है। रिपोर्ट को एक सरकारी लैब में तैयार किया जा रहा है, जबकि ICMR गाइडलाइन में कहा गया है कि सीटी वैल्यू 40 या उससे कम होने पर एक मरीज को सकारात्मक माना जाना चाहिए। बता दें कि सीटी वैल्यू शरीर में वायरस लोड का माप है।

भोपाल घोटाले की जांच में पता चला है कि स्वास्थ्य विभाग और जिला प्रशासन के अधिकारियों ने मौखिक रूप से लैब-प्रबंधकों को 30 से अधिक मूल्य वाले शहर की सकारात्मक रिपोर्ट नहीं देने का निर्देश दिया था। ये सभी घोटाले सकारात्मक रोगियों की संख्या को कम करने के लिए किए जा रहे हैं। शहर में हर दिन लगभग 400-500 सकारात्मकताएं मिल रही हैं। यदि रिपोर्ट 40 सीटी मूल्य के आधार पर जारी की जाती है, तो संक्रमित लोगों की संख्या बहुत अधिक होगी।

इस तरह से स्थिति को समझें

मामला एक

  • 70 वर्षीय मुकेश शर्मा (बदला हुआ नाम) ने 24 मार्च को जेके अस्पताल की लैब में सैंपल दिया था। जांच में उनका सीटी मान 30 से ऊपर है, जबकि रिपोर्ट नकारात्मक है।

केस -2

  • 60 वर्षीय सुरेश कुमार ने 30 मार्च को जांच के लिए सैंपल एलएन मेडिकल लैब भेजा था। जांच रिपोर्ट नकारात्मक आई, लेकिन उनका सीटी मान 31.32 है, लेकिन उन्हें कोविद प्रोटोकॉल द्वारा इलाज किया गया था। (10 ऐसे मामले हैं, जिनका सीटी मान 30-40 है, लेकिन रिपोर्ट नकारात्मक है।)

इस बारे में पूछे जाने पर जिला कलेक्टर अविनाश लवानिया ने जवाब दिया कि ऐसा कोई आदेश जारी नहीं किया गया है। अगर ऐसा होता, तो इतने मामले सामने नहीं आते। सीएमएचओ प्रभाकर तिवारी का कहना है कि सीटी मान अलग-अलग टेस्ट किट पर अलग-अलग होता है। सीटी वैल्यू का वायरस लोड से कोई लेना-देना नहीं है।

अधिक सकारात्मक रिपोर्ट देने के लिए सिस्टम ने एक लैब को सील कर दिया था
30 मार्च को, होशंगाबाद रोड पर थायरोकेयर सेंटर को सिस्टम और स्वास्थ्य विभाग ने सील कर दिया। लैब को कारण बताया गया था कि अत्यधिक रिपोर्ट पॉजिटिव आ रही थीं और RTPCR को सैंपल लेने की अनुमति नहीं थी, इसलिए इसे सील कर दिया गया। जबकि यहां के नमूनों को परीक्षण के लिए मुंबई भेजा जा रहा था, लेकिन जो रिपोर्टें आईं, उनमें 30 से ऊपर का शहर मूल्य था, इसलिए प्रयोगशाला ने इसे सकारात्मक दिखाया।

क्या रोगी को सीटी मूल्य जानने का अधिकार है?

आईएमए भोपाल के सचिव डॉ। सुदीप पाठक के मुताबिक, अगर कोई मरीज अपनी रिपोर्ट में सीटी वैल्यू जानना चाहता है, तो यह उसका अधिकार है। जांच करवाने पर आप लैब से सीटी वैल्यू पूछ सकते हैं।

विशेषज्ञ ने कहा कि यदि वायरस लोड कम है, तो मूल्य 40 पर आ जाएगा। आईसीएमआर के संक्रामक रोग विभाग के निदेशक समीरन पांडा के अनुसार, कोरोना नमूनों की जांच के लिए आईसीएमआर द्वारा जारी की गई सलाह में कहा गया है कि सीटी मूल्य 40 या उससे कम था तो रिपोर्ट सकारात्मक होगी। उससे ऊपर होने पर नकारात्मक। यदि शरीर में वायरस का लोड अधिक है, तो सीटी मान 20 से नीचे आ सकता है। कम वायरस लोड के कारण 40 सीटी मान हो सकता है, लेकिन रोगी सकारात्मक है।

इस तरह से भोपाल में संक्रमण बढ़ रहा है

दिनांक

नमूना

सकारात्मक बन गया

सकारात्मकता दर

अप्रैल 2

502 है

2,500

20.08%

1 अप्रैल

528

2,467 है

21.40%

31 मार्च

499 है

3,500

14.25%

30 मार्च

498

3,800 रु

13.10%

29 मार्च

497

3,000

16.56%

28 मार्च

४६ ९

3,750 रु

12.50%

27 मार्च

498

4,100 रु

12.14%

26 मार्च

460 है

4,000 रु

11.50%

अन्य खबरें भी है …
Updated: April 3, 2021 — 9:39 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Local Job Box © 2021 Frontier Theme