Local Job Box

Best Job And News Site

चीनी की कीमत 100 रुपये, चिकन मांस 365 रुपये और 500 रुपये, भारत के साथ व्यापार नहीं करने का फैसला भारी पड़ा चीनी की कीमत 100 रुपये, चिकन-मांस 365 रुपये और 500 रुपये, भारत के साथ व्यापार नहीं करने का फैसला भी भारी

विज्ञापनों द्वारा घोषित? विज्ञापनों के बिना समाचार पढ़ने के लिए दिव्य भास्कर एप्लिकेशन इंस्टॉल करें

5 मिनट पहले

  • लिंक की प्रतिलिपि करें

(फाइल फोटो)

पाकिस्तान असहनीय मुद्रास्फीति की चपेट में है। आर्थिक संकट के बीच, पाकिस्तान में मुद्रास्फीति ऐसी है कि आम आदमी को पूरा करने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है। हाल ही में पाकिस्तान ने भारत से चीनी और कपास खरीदने से इनकार करने के बाद चीनी की कीमत 100 रुपये प्रति किलोग्राम को पार कर गई है।

इसके अलावा, रसोई गैस की भारी कमी है। पाकिस्तान में मुद्रास्फीति भी 9 फीसदी को पार कर गई है। दूध, अंडे, सब्जियों और फलों की कीमत भी बहुत अधिक है। पाकिस्तान में 25 प्रतिशत से अधिक लोग गरीबी रेखा से नीचे रहते हैं, उनके लिए मुद्रास्फीति की दर असहनीय है।

चीनी के मूल्य में असाधारण वृद्धि
भारत से चीनी का आयात नहीं करने के फैसले के बाद कीमत 100 रुपये प्रति किलोग्राम को पार कर गई है। पिछले साल चीनी की कीमत 80 रुपये थी। स्थानीय बाजार विशेषज्ञों के अनुसार, भारत से चीनी आयात नहीं करने के फैसले का घरेलू कीमतों पर भारी प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है। इसके अलावा, चीनी की कीमत भी प्रभावित हुई है।

पाकिस्तान में चीनी की कीमत 100 प्रति किलो को पार कर गई है

पाकिस्तान में चीनी की कीमत 100 प्रति किलो को पार कर गई है

कराची-लाहौर में चिकन मीट की कीमत 365 रुपये से लेकर 500 रुपये प्रति किलोग्राम थी
पाकिस्तान के कराची और लाहौर में चिकन मीट की कीमत 365 रुपये से बढ़कर 500 रुपये हो गई है। इसके अलावा दूध की कीमत 130 रुपये प्रति लीटर, आलू की कीमत 60 रुपये प्रति किलोग्राम और टमाटर की कीमत 100 रुपये प्रति किलोग्राम हो गई है।

पाकिस्तान को रसोई गैस की भारी कमी का सामना करना पड़ रहा है
पाकिस्तान को जनवरी से ही रसोई गैस की भारी कमी का सामना करना पड़ रहा है। पाकिस्तान में गैस आपूर्तिकर्ता सुई उत्तरी को प्रति दिन 500 मिलियन क्यूबिक फीट गैस की कमी का सामना करना पड़ रहा है। इन परिस्थितियों में, कंपनी के पास बिजली क्षेत्र में गैस आपूर्ति में कटौती करने के अलावा कोई विकल्प नहीं है। इमरान खान सरकार ने समय पर गैस की खरीद नहीं की है, जिससे देश काफी तनाव में है।

पाकिस्तान को भी रसोई गैस की भारी कमी का सामना करना पड़ रहा है (फाइल फोटो)

पाकिस्तान को भी रसोई गैस की भारी कमी का सामना करना पड़ रहा है (फाइल फोटो)

पिछले एक साल में बिजली की दरों में 31.5 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है
पाकिस्तान के सांख्यिकी ब्यूरो (पीबीएस) के अनुसार, पिछले एक साल में बिजली की दरों में 31.5 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। गेहूं के आटे की कीमतों में 20 फीसदी, दाल में 20 फीसदी और वनस्पति घी में 17 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है।

वित्त मंत्री की जगह इमरान को लिया गया, लेकिन महंगाई कम नहीं हुई
पाकिस्तान में, जिसे मुद्रास्फीति में रखा गया है, इमरान सरकार ने हाल ही में डॉ अब्दुल हफीज शेख को बर्खास्त कर दिया और उद्योग और उत्पादन मंत्री हम्माद अजहर को नया वित्त मंत्री नियुक्त किया, हालांकि मुद्रास्फीति को नियंत्रण में नहीं लाया गया है।

अन्य खबरें भी है …
Updated: April 4, 2021 — 11:26 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Local Job Box © 2021 Frontier Theme