Local Job Box

Best Job And News Site

तृणमूल के गढ़ में कमजोर पड़ती बीजेपी के ‘आसोल परिवार’ की ‘बंगला निजेर मयके चाय’ का असर तृणमूल के गढ़ में कमजोर पड़ती बीजेपी की ‘आसोल परिवार’ की ‘बंगला निजेर मयके चाय’ का असर

विज्ञापनों द्वारा घोषित? विज्ञापनों के बिना समाचार पढ़ने के लिए दिव्य भास्कर ऐप इंस्टॉल करें

हुगली4 घंटे पहलेलेखक: अक्षय वाजपेयी

  • लिंक की प्रतिलिपि करें

सभा को संबोधित करते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

  • हुगली: 8 सीटों की रिपोर्ट जहां 6 अप्रैल को मतदान है

टीएमसी के गढ़ हुगली में ‘बंगला नीजर मयके है’, जिसका अर्थ है ‘बंगाल को अपनी बेटी की जरूरत है’ का नारा लगता है। 2019 के लोकसभा चुनाव तक हुगली टीएमसी का गढ़ था, लेकिन लोकसभा चुनाव में, बीजेपी ने उस गढ़ को तोड़ दिया और हुगली लोकसभा सीट जीती। तीसरे चरण में 6 अप्रैल को हुगली-आरामबाग – जंगीपाड़ा, हरिपाल, धान्याखली, तारकेश्वर, पुरसुरा, आरामबाग, गोगाट और खानकुल की 8 सीटों पर मतदान होना है।

ये सीटें बीजेपी के Par आसोल परिवार ’का अच्छा असर दिखा रही हैं, क्योंकि गांवों में ध्रुवीकरण हो गया है। हुगली के एक वरिष्ठ पत्रकार दीप्तिमान मुखर्जी के अनुसार, हरिपाल, आरामबाग, तारकेश्वर और गोगाट निर्वाचन क्षेत्रों में भाजपा की जीत निश्चित है। वह शेष 4 सीटें भी जीत सकता है, क्योंकि टीएमसी के स्थानीय संगठन में एक घुसपैठ है और पूरा संगठन भाजपा में शामिल हो गया है। 2019 तक इन जिलों में भाजपा का एक मजबूत संगठन नहीं था लेकिन उसके बाद बड़ी संख्या में टीएमसी और वामपंथी दलों के दिग्गज नेता भाजपा में शामिल हो गए और धीरे-धीरे पार्टी जमीनी स्तर पर मजबूत होती गई।

जहां मुस्लिम ज्यादा हैं वहां भी बीजेपी मजबूत है
जिन सीटों पर मुस्लिम आबादी ज्यादा है वहां भी भाजपा मजबूत स्थिति में दिख रही है। मुस्लिम वोट टीएमसी और संयुक्त मोर्चा के बीच बंटे हुए दिखाई देते हैं। भाजपा हिंदुओं को सुरक्षित और मजबूत बनाने के नारे का जाप कर रही है। जंगीपाड़ा सीट भाजपा, टीएमसी और संयुक्त मोर्चा के बीच तीन तरफा लड़ाई है। यह मुस्लिम बहुल इलाका है लेकिन भाजपा यहां भी लड़ रही है।

तारकेश्वर: अधिकांश वामपंथी नेता भाजपा में शामिल हुए, पार्टी मजबूत हुई:
तारकेश्वर में, भाजपा ने राज्यसभा के पूर्व सांसद पद्म भूषण स्वपन दासगुप्ता को मैदान में उतारा है। तारकेश्वर कभी वामपंथियों का गढ़ था लेकिन स्थानीय वामपंथी नेता भाजपा में शामिल हो गए हैं। तारकेश्वर आरामबाग लोकसभा सीट के लिए आता है। भाजपा 2019 में आरामबाग लोकसभा सीट हार गई, लेकिन तारकेश्वर और पारिपाल विधानसभाओं में जीत हासिल की। टीएमसी के यहां कमजोर होने का एक और कारण पार्टी की घुसपैठ है।

अगर कोई ईवीएम को दोष देता है, तो समझें कि उनका खेल खत्म हो गया है: मोदी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को हुगली के तारकेश्वर में रैली की। उन्होंने ममता पर तंज कसते हुए कहा कि अगर कोई ईवीएम को दोष देना शुरू करता है, तो यह समझा जाना चाहिए कि उसका खेल खत्म हो गया है। यदि कोई खिलाड़ी बार-बार क्रिकेट के मैदान पर अंपायर के खिलाफ सवाल उठाता है, तो समझें कि उसका खेल नुकसान में है। बंगाल के लोगों ने हर परीक्षा पास की है। फेल वो लोग हैं जिन्होंने बंगाल का विकास नहीं किया।

अन्य खबरें भी है …
Updated: April 4, 2021 — 2:24 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Local Job Box © 2021 Frontier Theme