Local Job Box

Best Job And News Site

4 मरीजों को कोविद वार्ड में भर्ती कराया गया, एक की हालत गंभीर है; 80 मरीजों को दूसरे अस्पताल में भेजा गया | 4 मरीजों को कोविद वार्ड में भर्ती कराया गया, एक की हालत गंभीर है; 80 मरीजों को दूसरे अस्पताल में शिफ्ट किया गया

  • गुजराती न्यूज़
  • राष्ट्रीय
  • 4 मरीजों को कोविद वार्ड में भर्ती कराया गया, गंभीर स्थिति में एक; 80 मरीजों को दूसरे अस्पताल में शिफ्ट किया गया

विज्ञापनों द्वारा घोषित? विज्ञापनों के बिना समाचार पढ़ने के लिए दिव्य भास्कर एप्लिकेशन इंस्टॉल करें

उज्जैन4 मिनट पहले

  • लिंक की प्रतिलिपि करें

चार दमकल वाहनों ने आधे घंटे में धमाका किया।

  • आग लगने पर भी फायर अलार्म बंद नहीं हुआ, वार्ड बॉय धुएं के कारण पहुंच गए
  • दो मंजिला अस्पताल से धुआं निकलता है और कई मशीनें और फर्नीचर जल जाते हैं

उज्जैन के फ्रीगंज में एक निजी अस्पताल के कोविद वार्ड में रविवार सुबह 11.30 बजे आग लग गई। आग ने 4 मरीजों को घायल कर दिया। एक की हालत गंभीर बताई जाती है। घटना के समय अस्सी मरीज अस्पताल में भर्ती थे। 24 कोविद मरीज थे। सभी मरीजों को दूसरे अस्पतालों में भेज दिया गया है। आग लगने का कारण शॉर्ट सर्किट बताया गया है।

उमाशंकर पाटीदार के अस्पताल का नाम पाटीदार अस्पताल और फ्रिंज में अनुसंधान केंद्र के नाम पर रखा गया है। यह दो मंजिला निजी अस्पताल जिले भर के रोगियों को पूरा करता है। रविवार को सुबह लगभग 11.30 बजे, अस्पताल की दूसरी मंजिल पर प्रतिष्ठित वार्ड में स्थित वार्ड बॉय ने धुआं उठता देखा और प्रबंधन को इसकी जानकारी दी। इसके तुरंत बाद अस्पताल से धुआं उगलने लगा। खिड़की तोड़कर मरीजों को बाहर निकाला गया। निर्देश मिलने पर दमकल की 4 गाड़ियों ने आधे घंटे में आग पर काबू पाया।

80 मरीजों को दूसरे अस्पतालों में शिफ्ट किया गया
अस्पताल में भर्ती सभी 80 मरीजों को बाहर निकाला गया। जिसमें महिलाएं और बच्चे भी शामिल थे। अस्पताल में भर्ती मरीजों के परिजन भी मौजूद थे। करीब एक घंटे के संघर्ष के बाद 20 एंबुलेंस की मदद से मरीजों को शिफ्ट किया गया। इनमें से कुछ मरीजों को आरडी गार्डी और गुरु नानक अस्पताल भेजा गया। आग में कोविद वार्ड की सभी मशीनें और फर्नीचर जल गए।

दुर्घटना के बाद अफरा-तफरी को अस्पताल ले जाया गया।

दुर्घटना के बाद अफरा-तफरी को अस्पताल ले जाया गया।

अलार्म नहीं, फायर सेफ्टी पर सवाल
अस्पताल में फायर अलार्म सिस्टम था, लेकिन घटना के समय कोई फायर अलार्म नहीं लगाया गया था। इससे अस्पताल की सुरक्षा पर सवाल खड़े होते हैं। कहा जा रहा है कि अग्निशमन उपकरण भी अच्छे नहीं थे। हालांकि, अस्पताल प्रबंधन ने दावा किया कि दमकल के पहुंचने से पहले आग पर काबू पा लिया गया था।

अन्य खबरें भी है …
Updated: April 4, 2021 — 10:52 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Local Job Box © 2021 Frontier Theme