Local Job Box

Best Job And News Site

रैना, रायडू, ब्रावो और कप्तान धोनी से मजबूत मध्य क्रम; लेकिन डेथ ओवरों में विशेषज्ञ गेंदबाजों की भारी कमी हो सकती है रैना, रायडू, ब्रावो और कप्तान धोनी से मजबूत मध्य क्रम; लेकिन विशेषज्ञ गेंदबाज डेथ ओवरों में खो सकते हैं

विज्ञापन द्वारा घोषित? विज्ञापनों के बिना समाचार पढ़ने के लिए दिव्य भास्कर एप्लिकेशन इंस्टॉल करें

मुंबई2 दिन पहले

  • लिंक की प्रतिलिपि करें

महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में चेन्नई सुपर किंग्स चौथी बार खिताब जीतने के लिए मैदान में उतरेगी। टीम ने सबसे अधिक आठ बार खेले गए फाइनल के लिए रिकॉर्ड बनाया है, हालांकि यह पिछले सीजन में पहली बार प्लेऑफ के लिए क्वालीफाई नहीं किया था। टीम नंबर 7 बनी रही। पिछली बार टीम के शीर्ष स्कोरर सुरेश रैना और शीर्ष विकेटकीपर हरभजन सिंह टीम में नहीं थे। रैना इस बार वापस आ गए हैं, जबकि हरभजन को टीम ने रिलीज कर दिया है और वह इस बार कोलकाता नाइट राइडर्स के लिए खेलेंगे।

रैना और रॉबिन उथप्पा के अलावा और ड्वेन ब्रावो के फिट होने से मध्य क्रम मजबूत हुआ है, लेकिन टीम के पास डेथ ओवरों में विशेषज्ञ गेंदबाज नहीं हैं, जो उन पर भारी पड़ सकता है।

आईपीएल 2021 के लिए चेन्नई टीम का SWOT विश्लेषण, यानी टीम की ताकत, कमजोरी, अवसर और खतरा।

शक्ति -1 मजबूत मध्य क्रम
सीएसके टीम में उद्घाटन के लिए 4 खिलाड़ी दावेदार हैं। वे हैं ऋतुराज गायकवाड़, रॉबिन उथप्पा, फाफ डु प्लेसिस और मोइन अली। इसके साथ ही टीम का मध्य क्रम भी काफी मजबूत है। मध्य क्रम में सुरेश रैना, ड्वेन ब्रावो, अंबाती रायडू और कप्तान महेंद्र सिंह धोनी बल्लेबाजी कर रहे हैं। अगर मोइन अली नहीं खुलते हैं, तो वह सातवें नंबर पर बल्लेबाजी करके चेन्नई की टीम को भी मजबूत करेंगे।

CSK के पास सैम करण जैसा तेज गेंदबाज है, जो किसी भी स्थिति में मैच जीतने की क्षमता रखता है। इंग्लिश ऑलराउंडर ने पिछले महीने टीम इंडिया के खिलाफ तीसरा एकदिवसीय मैच जीता था, लेकिन भारत की अच्छी गेंदबाजी की वजह से मैच अंतिम समय पर पलट गया था।

स्ट्रेंथ -2 स्पिन गेंदबाजी
धोनी की कप्तानी में, सीएसके की टीम स्पिन विभाग में बहुत मजबूत है। टीम में रवींद्र जडेजा, इमरान ताहिर, मोइन अली, कृष्णप्पा गौतम, कर्ण शर्मा जैसे स्पिनर हैं। धोनी और प्रबंधन को उम्मीद थी कि वे हमेशा की तरह अपने घरेलू मैदान चेन्नई में अपना आधा मैच खेलेंगे। यह पिच स्पिनरों की मदद करती है, इसलिए प्रबंधन ने टीम में अधिक स्पिनरों को रखा।

कोरोना के कारण, बीसीसीआई एक कार्यक्रम के साथ आया है जिसके तहत कोई भी टीम इस समय घर पर नहीं खेलेगी। CSK की टीम मुंबई में 5, दिल्ली में 4, बेंगलुरु में 3 और कोलकाता में 2 मैच खेलेगी। ये चारों बल्लेबाज़ मैदान की पिच पर बल्लेबाज़ की मदद करते हैं। स्पिनरों के लिए मदद लेना मुश्किल है, खासकर मुंबई और बेंगलुरु की पिचों पर, हालांकि दिल्ली और कोलकाता में कुछ मदद की उम्मीद है।

दलजीत सिंह, जो 22 वर्षों से बीसीसीआई के मुख्य क्यूरेटर रहे हैं, को लगता है कि स्पिनर भारत की अधिकांश पिचों पर मदद करते हैं। भारतीय पिच को केवल स्पिनरों के लिए जाना जाता है। ऐसे में सीएसके की टीम काफी मजबूत दिख रही है।

कमजोरी: डेथ ओवरों में विशेषज्ञ गेंदबाजों की कमी

सीएसके टीम में ड्वेन ब्रावो, शार्दुल ठाकुर, लुंगी गिदी, दीपक चाहर, सैम करन और केएम आसिफ जैसे तेज गेंदबाज हैं। शार्दुल और ब्रावो प्रमुख विकेट लेने वाले हैं। इन सबके बावजूद, टीम के पास डेथ ओवरों में रन बचाने के लिए विशेषज्ञ गेंदबाज की कमी है। ब्रावो और शार्दुल ने बीच के ओवरों में अच्छी गेंदबाजी की।

ब्रावो ने शुरू में डेथ ओवरों में अच्छी गेंदबाजी की, लेकिन उनकी बढ़ती उम्र के कारण उनकी गेंदबाजी पहले की तरह केंद्रित नहीं रही। डेथ ओवरों में दक्षिण अफ्रीका के गिदी और दीपक को गेंदबाजी का बहुत कम अनुभव है। युवा गिडी ने राष्ट्रीय टीम के लिए केवल 27 टी 20 खेले हैं, जिसमें 28 विकेट जल्दी लिए हैं। टीम में ऑस्ट्रेलियाई तेज गेंदबाज जोश हेजलवुड भी शामिल थे, हालांकि उन्होंने अंतिम समय में अपना नाम वापस ले लिया।

मौका: चौथी बार खिताब जीतने का मौका
CSK ने लीग में अधिकतम आठ फाइनल (2008, 2010, 2011, 2012, 2013, 2015, 2018, 2019) खेले हैं। धोनी की कप्तानी में, टीम फाइनल में कैसे पहुंचती है, यह जानती है, लेकिन उस मैच में उनकी सफलता दर कम। टीम के पास चौथी बार कप उठाने का मौका है।

खतरे: धीमी शुरुआत और डेथ ओवरों में रन बनाने के लिए दृष्टिकोण
धोनी की कप्तानी में, सीएसके की टीम हमेशा शुरुआत में धीमी गति से खेली है। विकेट बचाने के बाद, टीम ने अंत में अधिक से अधिक रन बनाए। टीम का यह तरीका पिछले साल पूरी तरह से फ्लॉप रहा। पिछला सीजन यूएई में हुआ था, जहां अबू धाबी और शारजाह की पिचें काफी छोटी थीं, रनों का ढेर था।

इस दृष्टिकोण के कारण CSK पीछे रह गया और अधिकांश मैच हार गए। टीम पिछले सीज़न में अंक तालिका में 7 वें स्थान पर रही। लीग के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है कि CSK की टीम ने प्लेऑफ में जगह नहीं बनाई। धोनी के तहत, अगर टीम चौथा खिताब जीतना चाहती है, तो इस रवैये को बदलना होगा।

बल्लेबाज: महेंद्र सिंह धोनी, सुरेश रैना, चेतेश्वर पुजारा, अंबाती रायुडू, फाफ डु प्लेसिस, रॉबिन उथप्पा, ऋतुराज गायकवाड़, सी हरि निशांत और एन। जगदीशन।
हरफनमौला: ड्वेन ब्रावो, सैम करन, रवींद्र जडेजा, मोइन अली, कर्ण शर्मा, मिशेल सेंटनर, भगत वर्मा और कृष्णप्पा गौतम।
गेंदबाज: दीपक चाहर, इमरान ताहिर, लुंगी गिदी, शार्दुल ठाकुर, केएम आसिफ, एम। हरिशंकर रेड्डी और आर साई किशोर।

अन्य खबरें भी है …
Updated: April 8, 2021 — 7:03 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Local Job Box © 2021 Frontier Theme