Local Job Box

Best Job And News Site

सरकार ने उपचुनाव घुटन के लिए ऑक्सीजन भेजा, रात में सिलेंडर उठाया और मरीज के परिवार के सदस्यों को निकाल लिया। | सरकार ने उपचुनाव पीड़ित को ऑक्सीजन भेजा, रात में सिलेंडर ले जाया और मरीज के परिवार के सदस्यों को ले जाया गया।

विज्ञापनों द्वारा घोषित? विज्ञापनों के बिना समाचार पढ़ने के लिए दिव्य भास्कर एप्लिकेशन इंस्टॉल करें

दमोह26 मिनट पहले

  • प्रतिरूप जोड़ना

मंगलवार रात 11:30 बजे जिला अस्पताल में ऑक्सीजन सिलेंडर की आपूर्ति की गई। इस दौरान अस्पताल में भर्ती मरीजों के परिजनों ने सिलेंडर उठाया और उसे लेकर चले गए।

सरकार ने उपचुनाव दमोह में मंगलवार रात को जिला अस्पताल में ऑक्सीजन पहुंचाई। ऑक्सीजन आते ही मरीजों के परिजनों ने सिलेंडर लूट लिया। एक सिलेंडर के बजाय, उन्होंने दो सिलेंडर उठाए और दौड़ना शुरू किया। जब कर्मचारियों ने सिलेंडर वापस करने की मांग की, तो परिवार के सदस्यों ने दुर्व्यवहार करना शुरू कर दिया। स्थिति इतनी बिगड़ गई कि पुलिस को बुलाना पड़ा।

पुलिस सिलेंडर वापस नहीं कर सकी
यहां तक ​​कि मौके पर पहुंची पुलिस भी परिवार वालों से सिलेंडर नहीं ला सकी। बुधवार सुबह सिलेंडर की जरूरत पड़ी तो हंगामा हो गया। जिसके बाद पुलिस ने आकर लोगों से बात की। लेकिन लोग सिलेंडर देने के लिए तैयार नहीं थे। उन्होंने कहा कि उन्हें अस्पताल पर भरोसा नहीं है। किसी तरह पुलिस कुछ सिलेंडर लाने में सफल रही, लेकिन कई अभी भी सिलेंडर वापस नहीं कर पाए हैं।

एएसपी शिवकुमार सिंह ने कहा कि सिलेंडर अस्पताल के अंदर था और मरीजों को लगाया जा रहा था। स्नैच जैसी कोई बात नहीं है। सभी रोगियों को एक सिलेंडर की आवश्यकता होती है, इसलिए इसे केवल अस्पताल द्वारा आपूर्ति की जानी चाहिए।

घटना दमोह के जिला अस्पताल में मंगलवार रात 11:30 बजे हुई। सिलेंडर को लेकर हुए विवाद के बाद डॉक्टर, सिविल सर्जन, सीएमएचओ सहित अस्पताल का सारा स्टाफ एक साथ आ गया। अस्पताल के सिविल सर्जन डॉ। ममता तिमोरी ने कहा कि मरीजों ने सिलेंडर को पकड़कर अपने पास रखा था। उन्होंने कहा कि 4 दिनों के लिए पुलिस सुरक्षा की मांग की गई है। एसपी को भी पत्र लिखा गया है, लेकिन कोई व्यवस्था नहीं की गई है। जैसे ही ऑक्सीजन सिलेंडर वाला ट्रक आता है, मरीजों के परिजन सिलेंडर उठाकर चले जाते हैं।

दमोह अस्पताल में कोरोना के मरीजों का इलाज जमीन पर लेटकर किया जाता है।

दमोह अस्पताल में कोरोना के मरीजों का इलाज जमीन पर लेटकर किया जाता है।

दमोह में जमीन पर लेटकर इलाज किया जाता है
संक्रमण के कारण मंगलवार को दमोह में आठ लोगों की मौत हो गई। 103 नए कोरोना पॉजिटिव मरीज सामने आए हैं। 20 दिनों में मरने वालों की संख्या बढ़कर 70 हो गई है और 1,189 सकारात्मक मामले सामने आए हैं। जिला अस्पताल में मरीजों के लिए बेड की संख्या घट रही है। फर्श पर एक गैलरी में झूठ बोलकर कोरोना संदिग्ध रोगियों का इलाज किया जाता है।

अन्य खबरें भी है …
Updated: April 21, 2021 — 10:36 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Local Job Box © 2021 Frontier Theme