Local Job Box

Best Job And News Site

उन्होंने कहा, “भारत की स्थिति विकट है। अस्पताल मरीजों से भरे हैं और श्मशान लाशों से भरे हैं।” | उन्होंने कहा, “भारत की स्थिति गंभीर है, अस्पताल मरीजों से भरे हुए हैं और श्मशान लाशों से भरे हैं।”

विज्ञापनों द्वारा घोषित? विज्ञापनों के बिना समाचार पढ़ने के लिए दिव्य भास्कर एप्लिकेशन इंस्टॉल करें

जिनेवा20 मिनट पहले

  • प्रतिरूप जोड़ना

टेड्रोस ने कहा कि डब्ल्यूएचओ के पास भारत में कोरोना प्रबंधन के लिए काम करने वाले 2600 विशेषज्ञों की एक टीम है।

  • डब्ल्यूएचओ ने कोरोना महामारी के कारण भारत में विकट स्थिति पर चिंता व्यक्त की
  • मरीज का परिवार भारत के अस्पतालों में बेड और ऑक्सीजन के लिए भटक रहा है

डब्ल्यूएचओ ने कोरोना महामारी के कारण भारत में बिगड़ती स्थिति पर चिंता व्यक्त की है। संस्था के अध्यक्ष डाॅ। “इस समय भारत में स्थिति चिंताजनक है,” टेड्रोस अधनम घबराबीस ने कहा। पिछले कुछ दिनों में भारत में कोरोना रोगियों की संख्या तेजी से बढ़ी है। अस्पतालों में दो दिनों तक ऑक्सीजन की व्यवस्था करने के लिए मरीजों के परिजन सोशल मीडिया पर पोस्ट कर रहे हैं। स्थिति का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि राजधानी दिल्ली में एक हफ्ते तक तालाबंदी की गई। टेड्रोस ने कहा कि भारत कोविद -19 लहर से लड़ रहा था। अस्पतालों में मरीजों की भरमार है। कब्रिस्तानों में लाशों की कतार है। यह वास्तव में दिल तोड़ने वाली स्थिति है।

उन्होंने कहा कि भारत में पोलियो और तपेदिक (टीबी) के खिलाफ काम करने वाले 2600 विशेषज्ञों को कोरोना के खिलाफ काम करने के लिए तैनात किया गया है। डब्ल्यूएचओ हर तरह से मदद करने की कोशिश कर रहा है। संयुक्त राष्ट्र (UN) की स्वास्थ्य एजेंसी भारत में ऑक्सीजन सांद्रता और अस्पतालों के लिए आवश्यक उपकरणों की आपूर्ति कर रही है।

दुनिया भर में 148.4 मिलियन कोरोना के मरीज हैं
दुनिया में अब तक 148.4 मिलियन कोरोना रोगी हैं। इनमें से 31 लाख 33 हजार लोग मारे गए हैं। दुनिया के अमीर देशों ने वहां अपने टीकाकरण कार्यक्रम तेज कर दिए हैं और महामारी को रोकने की कोशिश कर रहे हैं।

भारत के साथ अमेरिका और जापान
इससे पहले सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन के बीच फोन पर बातचीत हुई थी। बिडेन ने मोदी को बताया कि जब कोविद -19 के कारण अमेरिका मुश्किल दौर से गुजर रहा था, तब भारत ने उनकी बहुत मदद की। अब अमेरिका की बारी है। बातचीत के बाद, पीएम मोदी ने कहा कि उन्होंने अमेरिकी राष्ट्रपति को उनकी मदद के लिए धन्यवाद दिया। कुछ समय पहले, जापानी प्रधान मंत्री योशीहिदे सुगा ने भी मोदी के साथ फोन पर बातचीत की थी।

अमेरिका कच्चे माल की आपूर्ति करेगा
बिडेन के साथ चर्चा करने के बाद, मोदी ने सोशल मीडिया पर कहा- हमने चर्चा की कि वैक्सीन कच्चे माल और दवाओं की आपूर्ति श्रृंखला को प्रभावी कैसे बनाया जाए। भारत-यूएस हेल्थकेयर पार्टनरशिप दुनिया में COVID-19 द्वारा उत्पन्न चुनौतियों का सामना कर सकती है। हमने दोनों देशों में महामारी द्वारा निर्मित स्थिति के बारे में विस्तार से बात की।

सऊदी से भारत में 80 टन ऑक्सीजन
सऊदी अरब के दम्मम के बंदरगाह से 4 क्रायोजेनिक टैंकों में 80 टन ऑक्सीजन भारत में भेज दी गई। यह जल्द ही मुंद्रा बंदरगाह पर पहुंचेगा। इसे अडानी ग्रुप के नेतृत्व में लाया जा रहा है।

अन्य खबरें भी है …
Updated: April 27, 2021 — 4:41 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Local Job Box © 2021 Frontier Theme