Local Job Box

Best Job And News Site

बोर्ड का रवैया, स्थानीय क्रिकेट का स्तर, स्टार संस्कृति से पिछड़ी महिलाएं | बोर्ड का रवैया, स्थानीय क्रिकेट का स्तर, स्टार कल्चर से पिछड़ी महिलाएं

विज्ञापनों से परेशान हैं? विज्ञापनों के बिना समाचार पढ़ने के लिए दिव्य भास्कर ऐप इंस्टॉल करें

मुंबई१६ मिनट पहले

  • प्रतिरूप जोड़ना

भारतीय महिला टीम ने पिछले वनडे और टी20 वर्ल्ड कप के फाइनल में प्रवेश किया था. फिर भी टीम अभी भी अपनी पहली आईसीसी ट्रॉफी का इंतजार कर रही है। टीम ने अपना पहला वनडे 1978 में खेला था। 1973 से वनडे खेल रहे ऑस्ट्रेलिया ने छह और इंग्लैंड ने चार विश्व कप जीते हैं.

2018 एशिया कप फाइनल में टीम बांग्लादेश से हार गई थी। इन सबका बड़ा कारण यह है कि टीम को कुछ खिलाड़ियों पर निर्भर रहना पड़ता है। टीम में भी कई बदलाव हुए। 351 वनडे मैच खेल चुकी इंग्लैंड ने अब तक 134 खिलाड़ियों को मैदान में उतारा है। इसलिए भारत ने 130 खिलाड़ियों को 277 मैचों का मौका दिया है। टीम में कई विवाद हैं। जिसका असर सीधे टीम के प्रदर्शन पर देखा जा सकता है।

1. स्थानीय क्रिकेट में खेल का स्तर बहुत कम होता है
टीम के खराब प्रदर्शन का एक कारण स्थानीय स्तर पर क्रिकेट की खराब गुणवत्ता है। 2017 अंडर-19 टूर्नामेंट में नागालैंड की टीम 2 रन पर ऑल आउट हो गई थी। आईपीएल के बाद पुरुष क्रिकेट में काफी बदलाव आया है। लेकिन महिला आईपीएल की शुरुआत अच्छी नहीं रही।

महिला आईपीएल 3 साल से चल रहा है। जिसमें अभी तक 9 मैच खेले गए हैं। जबकि ऑस्ट्रेलिया 2015 से महिला बिग बैश खेल रही है। इंग्लैंड ने 2016 से सुपर लीग भी शुरू की है।

2. सीनियर महिला वन-डे लीग की देर से शुरुआत
1997 से इंग्लैंड में महिला काउंटी वन-डे आयोजित किया जा रहा है। जिसमें एक विदेशी खिलाड़ी भी खेलता है। काउंटी में डिवीजन -1, डिवीजन -2 और डिवीजन -3 टूर्नामेंट भी हैं।

महिला राष्ट्रीय लीग 1996 से ऑस्ट्रेलिया में खेली जा रही है। विदेशी खिलाड़ियों को मौका दिया जाता है। सीनियर वन-डे लीग की शुरुआत देश के 10 साल बाद 2006 में भारत में हुई थी। जिसमें सिर्फ एक ही टीम का दबदबा रहा। रेलवे ने 12 में से 11 सीजन जीते।

3. महिलाओं को ज्यादा महत्व नहीं
महिला क्रिकेट को बढ़ावा नहीं देने के लिए भी बीसीसीआई जिम्मेदार है। मार्च 2020 में टी20 वर्ल्ड कप फाइनल खेले जाने के एक साल बाद टीम ने मार्च में साउथ अफ्रीका के खिलाफ इंटरनेशनल सीरीज खेली।

शेड्यूल बनाते समय बोर्ड ने अलग-अलग दिनों में मैच कराने पर ध्यान नहीं दिया। भारत-इंग्लैंड महिला टेस्ट (16 जून) और टेस्ट चैंपियनशिप (18 जून) भिड़ेगी। टी20 चैलेंज विमेंस बिग बैश के दौरान भी हुआ था।

एक और खबर भी है…
Updated: May 15, 2021 — 10:45 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Local Job Box © 2021 Frontier Theme