Local Job Box

Best Job And News Site

ब्रिटेन के उच्च न्यायालय ने भगोड़े व्यवसायी की संपत्ति से सुरक्षा कवर हटाया, एसबीआई ऋणों की वसूली का मार्ग प्रशस्त किया | ब्रिटेन के उच्च न्यायालय ने भगोड़े व्यवसायी की संपत्ति से सुरक्षा कवर हटाया, एसबीआई ऋणों की वसूली का मार्ग प्रशस्त किया

  • गुजराती समाचार
  • व्यापार
  • ब्रिटेन के उच्च न्यायालय ने भगोड़े व्यवसायी की संपत्ति से सुरक्षा कवर हटाया, एसबीआई ऋणों की वसूली का मार्ग प्रशस्त किया

विज्ञापनों से परेशान हैं? विज्ञापनों के बिना समाचार पढ़ने के लिए दिव्य भास्कर ऐप इंस्टॉल करें

मुंबई33 मिनट पहले

  • प्रतिरूप जोड़ना

(फ़ाइल छवि)

लंदन की एक अदालत ने मंगलवार को भगोड़े कारोबारी विजय माल्या को मुंह पर तमाचा मार दिया। यहां की एक अदालत में दिवालियेपन के लिए अर्जी देने वाले विजय माल्या हार गए हैं। अदालत के आदेश से स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) को अपनी संपत्ति बेचने और अपना बकाया वसूल करने का मार्ग प्रशस्त होगा।

किंगफिशर एयरलाइंस के लिए माल्या ने लिया कर्ज
लंदन हाई कोर्ट ने भारत में माल्या की संपत्ति पर लगाए गए सुरक्षा कवर को हटा लिया है। इससे भारतीय बैंकों के एसबीआई के नेतृत्व वाले कंसोर्टियम के लिए माल्या से बकाया वसूलने की प्रबल संभावना पैदा हो गई है। भारतीय बैंक अब भारत में माल्या की संपत्ति को जब्त कर सकेंगे और बंद हो चुकी किंगफिशर एयरलाइंस से कर्ज वसूल कर सकेंगे।

बैंक के संघ ने अप्रैल में कोशिश की tried
अप्रैल में लंदन उच्च न्यायालय में सुनवाई के दौरान एसबीआई के नेतृत्व वाले संघ ने भगोड़े कार्यकारी को दिवालिया घोषित करने की पूरी कोशिश की। विजय माल्या पर किंगफिशर एयरलाइंस का 9,000 करोड़ रुपये बकाया है।

लंदन की अदालत ने भारतीय बैंक के पक्ष में फैसला सुनाया
विजय माल्या ने यह भी दावा किया कि भारतीय बैंकों द्वारा दायर दिवालिया कानून के दायरे से बाहर थे। इसे भारत में उनकी संपत्ति की सुरक्षा पर लागू नहीं किया जा सकता है, क्योंकि यह भारत में सार्वजनिक हित के खिलाफ है। लंदन हाई कोर्ट के चीफ इन्सॉल्वेंसी एंड कंपनीज कोर्ट (ICC) के जज माइकल ब्रिग्स ने भारतीय बैंकों के पक्ष में फैसला सुनाते हुए कहा कि ऐसी कोई सार्वजनिक नीति नहीं थी जो माल्या की संपत्ति को सुरक्षा अधिकार दे सके।

भारत आगमन में हो सकती है देरी
ब्रिटेन और ब्रिटेन के गृह कार्यालय में प्रत्यर्पण का मामला हारने के बावजूद, शरण की अपील को खारिज करते हुए, विजय माल्या के प्रत्यर्पण में देरी हो सकती है, जो 9,000 करोड़ रुपये चूना लेकर भारत से भाग गया था। माल्या पूरी कोशिश कर रहे हैं कि उन्हें भारत न आना पड़े। कानूनी विशेषज्ञों का कहना है कि उनके ब्रिटेन में जीतने की संभावना नहीं है, हालांकि उनके द्वारा उपयोग किए जाने वाले सभी मार्गों को देखते हुए, वह कुछ और दिनों तक ब्रिटेन में रह सकते हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि ब्रिटेन में रहने के लगभग सभी कानूनी रास्ते बंद कर दिए गए हैं।

एक और खबर भी है…
Updated: May 18, 2021 — 7:07 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Local Job Box © 2021 Frontier Theme