Local Job Box

Best Job And News Site

सिर्फ 19 महिला खिलाड़ी हैं अनुबंधित, शीर्ष महिला क्रिकेटरों की सालाना सैलरी 50 लाख रुपए; पुरुष खिलाड़ियों को इससे 14 गुना ज्यादा मिलता है | सिर्फ 19 महिला खिलाड़ी हैं अनुबंधित, शीर्ष महिला क्रिकेटरों की सालाना सैलरी 50 लाख रुपए; पुरुष खिलाड़ियों को इससे 14 गुना ज्यादा मिलता है

  • गुजराती समाचार
  • खेल
  • क्रिकेट
  • सिर्फ 19 महिला खिलाड़ी हैं अनुबंधित, टॉप महिला क्रिकेटरों की सालाना सैलरी 50 लाख रुपए; पुरुष खिलाड़ियों को इससे 14 गुना अधिक मिलता है

विज्ञापनों से परेशान हैं? विज्ञापनों के बिना समाचार पढ़ने के लिए दिव्य भास्कर ऐप इंस्टॉल करें

मुंबई5 मिनट पहले

  • प्रतिरूप जोड़ना

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) ने अपने भेदभाव को जारी रखा है। दो दिन पहले भास्कर ने इंग्लैंड जाने वाले खिलाड़ियों के कोरोना टेस्ट में बोर्ड के भेदभावपूर्ण रवैये का पर्दाफाश किया था. अब बीसीसीआई का यह रवैया सालाना समझौते में भी सामने आया है।

बोर्ड ने बुधवार देर रात 19 महिला खिलाड़ियों के वार्षिक केंद्रीय अनुबंध की घोषणा की। पिछले साल 22 महिला खिलाड़ियों को अनुबंधित किया गया था। वहीं केंद्रीय अनुबंध प्राप्त करने वाले पुरुष खिलाड़ियों की संख्या 27 से बढ़ाकर 28 कर दी गई है।

ग्रेड ए खिलाड़ियों 50-50 लाख रुपये लाऊंगा

  • बीसीसीआई ने 19 में से 3 खिलाड़ियों हरमनप्रीत कौर, स्मृति मंधाना और पूनम यादव को ग्रेड ए में रखा है। तीनों को 50-50 लाख रुपये मिलेंगे।
  • ग्रेड बी में टेस्ट और वनडे कप्तान मिताली राज और भारत की सबसे सफल महिला गेंदबाज जुल्हन गोस्वामी समेत 10 खिलाड़ी हैं।
  • प्रिया पूनिया और पूजा वस्त्राकर सहित 6 खिलाड़ी ग्रेड सी में हैं।
  • ग्रेड बी के खिलाड़ियों को 30-30 लाख रुपये और ग्रेड सी के खिलाड़ियों को 10 लाख रुपये मिलेंगे।
  • पिछले साल भी तीनों ग्रेड के लिए इतनी ही राशि दी गई थी।
शेफाली को सी-ग्रेड से बी-ग्रेड में पदोन्नत किया गया है।  एकता बिष्ट को ठेका नहीं मिला है।

शेफाली को सी-ग्रेड से बी-ग्रेड में पदोन्नत किया गया है। एकता बिष्ट को ठेका नहीं मिला है।

है

  • पुरुष खिलाड़ियों में महिलाओं की तुलना में उच्चतम ग्रेड ए प्लस है।
  • इस ग्रेड में विराट कोहली, रोहित शर्मा और जसप्रीत बुमराह आते हैं। उन्हें सालाना 7 करोड़ रुपये मिलते हैं।
  • इसके बाद ए ग्रेड में मौजूद खिलाड़ियों को 5 करोड़ रुपये, बी ग्रेड के खिलाड़ियों को 3 करोड़ रुपये और सी ग्रेड के खिलाड़ियों को 1 करोड़ रुपये मिलते हैं।
  • इसका मतलब यह है कि सी ग्रेड में पुरुष खिलाड़ियों को भी ए ग्रेड में महिला क्रिकेटरों से अधिक मिलता है।

पुरुषों के समझौते का रकम पांच साल में सात मुड़ा हुआ बढ़ाया हुआ, औरतों का तीन मुड़ा हुआ

  • ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड समेत अन्य देशों में महिला क्रिकेटर पुरुषों से कम कमाती हैं।
  • हालांकि इस अंतर को कम करने के लिए लगातार प्रयास किए जा रहे हैं।
  • दूसरी ओर भारत में खाई चौड़ी होती जा रही है। 2015-16 में पहली बार महिला खिलाड़ियों को भारत में अनुबंध मिला। उस समय टॉप ग्रेड महिला खिलाड़ी को 15 लाख रुपये दिए जाते थे।
  • उस समय शीर्ष श्रेणी के पुरुष क्रिकेटरों को 1 करोड़ रुपये मिलते थे। यानी पांच साल में पुरुषों के ठेके की रकम 7 गुना बढ़ी है,
  • जबकि महिलाओं के अनुबंध की राशि लगभग 3 गुना बढ़ गई है।

एक और खबर भी है…
Updated: May 20, 2021 — 7:28 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Local Job Box © 2021 Frontier Theme