Local Job Box

Best Job And News Site

गायिका कविता सेठ बोलीं, मैंने आइटम नंबर और मुजरा गाने से किया इनकार | गायिका कविता सेठ ने कहा, “मैंने आइटम नंबर और मुजरा गाने से मना कर दिया है, इसलिए मेरे पास इतने कम लोग हैं।”

विज्ञापनों से परेशान हैं? विज्ञापनों के बिना समाचार पढ़ने के लिए दिव्य भास्कर ऐप इंस्टॉल करें

मुंबई10 मिनट पहलेलेखक: अमित कर्ण

  • प्रतिरूप जोड़ना

गायिका कविता सेठ ने हाल ही में दाग देहलवी की लोकप्रिय रचना ‘लुटफ वो इश्क में पाए हैं की जी जनता है’ का लाइव संस्करण जारी किया है। ‘वेक अप सिड’, ‘गैंगस्टर’ से लेकर ‘बगम जान’ तक, कविता अपनी शर्तों पर गाने गाती है। वह फिल्म की तुलना में अपने स्वतंत्र संगीत के काम से ज्यादा खुश हैं। कविता ने वेब शो ‘ए सूटेबल बॉय’ में संगीत दिया और गाना गाया।

‘थप्पड़’ गाना पसंद आया
कविता फिल्म में मौजूदा संगीतमय काम से निराश हैं। उन्होंने कहा, ‘इंडस्ट्री में जिस तरह से गाने बन रहे हैं, उससे मैं बहुत निराश हूं। हाल ही में मुझे तापसी पन्नू की फिल्म ‘थप्पड़’ का एक गाना पसंद आया। गायकों और संगीतकारों की मानसिक स्थिति पर कोरोना की दूसरी लहर का विपरीत प्रभाव पड़ा है। हम अच्छे गानों की रचना पर ध्यान नहीं दे सकते। गीत गांव में लंबी सांसों का बहुत महत्व है।’

इंडस्‍ट्री में गंदे गाने भी पैसे की सांसों पर लाखों लोगों तक पहुंचते हैं!
कविता ने आगे कहा, ‘दुख की बात है कि म्यूजिक इंडस्ट्री में काफी कैंपिंग हो रही है। वर्तमान समय में संगीत की बर्बादी का कारण यह शिविर है। उनके पास बहुत पैसा है। गंदे गानों की कीमत भी लाखों में हो सकती है। इंडिपेंडेंट म्यूजिक से जुड़े लोग ऐसा नहीं कर सकते। यही कारण है कि अच्छे गीत और संगीत लोगों तक नहीं पहुंच पाते।

आज भी लोग मुझे ‘गुंजा सा है कोई इकतारा’ ऑर्डर करते हैं
कविता ने आगे कहा, ‘अच्छा संगीत सुगंध की तरह होता है। यह लोगों तक पहुंचता है। बस धैर्य रखने की जरूरत है। मैं संगीत माफिया के तर्क पर विश्वास नहीं करता कि लोग अब अलकाजी, कुमार शानू या मेरे गाने पसंद नहीं करते हैं। आज भी, सोमीडिया की युवा पीढ़ी मुझसे ‘गूंजा सा है कोई इकतारा’ सुनने के लिए कहती है। जब मैंने फिल्म ‘कॉकटेल’ में ‘तुम ही हो बंधु’ गाया और यह हिट हुई तो मुझे कई ऑफर मिले। तब अमित त्रिवेदी ने मुझसे कहा कि भेड़ की तरह काम मत करो। साल में एक या दो गाने ही गाएं, लेकिन ऐसे गाने गाएं जो सुनने वाले के दिमाग पर गहरा असर करें। मुझे उनकी बात अच्छी लगती है, वरना अरिजीत सिंह को भी स्टीरियोटाइप कर दिया गया है.’

आइटम नंबर और मुजरा नहीं गाते
कविता ने आगे कहा, ‘मैंने आइटम नंबर और मुजरा गाने से मना कर दिया है। ‘तेवर’ के निर्देशक अमित शर्मा को मेरा गाना ‘इकतारा’ बेहद पसंद आया। इससे प्रेरित होकर उन्होंने साजिद-वाजिद के कहने पर मुझे ‘तेवर’ का आइटम सॉन्ग ऑफर किया, लेकिन मैंने विनम्रता से मना कर दिया। इन सब वजहों से लोग मेरे पास कम आते हैं और मुझे इसका कोई मलाल नहीं है।’

एक और खबर भी है…
Updated: May 23, 2021 — 8:53 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Local Job Box © 2021 Frontier Theme