Local Job Box

Best Job And News Site

7 जून से जर्मनी में अब 12 साल से अधिक उम्र के बच्चों को टीका दिया जाएगा | जर्मनी में अब 12 साल से अधिक उम्र के बच्चों को यह टीका 7 जून से दिया जाएगा

विज्ञापनों से परेशान हैं? विज्ञापनों के बिना समाचार पढ़ने के लिए दिव्य भास्कर ऐप इंस्टॉल करें

एक मिनट पहले

  • प्रतिरूप जोड़ना

जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल ने कहा कि 12 साल से अधिक उम्र के बच्चों को 7 जून से कोरोना की वैक्सीन दी जाएगी.

  • बच्चों में टीकाकरण महामारी के खिलाफ लड़ाई में झुंड प्रतिरक्षा की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है।

देश और दुनिया में हैजा की महामारी को खत्म करने के लिए अब टीकाकरण अभियान में तेजी लाई जा रही है। अभी तक सिर्फ वयस्कों को ही कोरोना का टीका लगाया जाता था, लेकिन अब अमेरिका समेत दुनिया के कई हिस्सों में बच्चों को फाइजर का टीका लगाया जा रहा है। इसी बीच जार से एक अच्छी खबर सामने आई है। दरअसल, यहां के बच्चों को भी अब अगले महीने से कोरोना का टीका लगाया जाएगा। जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल ने कहा कि 12 से 15 साल के बच्चों को भी जून से कोरोना की वैक्सीन दी जाएगी. यूरोपीय चिकित्सा एजेंसी ने पहले ही 16 से 18 वर्ष की आयु के बच्चों के लिए कोविड -19 वैक्सीन को मंजूरी दे दी है।

पत्रकारों से बातचीत
पत्रकारों से बात करते हुए, एंजेला मर्केल ने कहा कि 12 साल से अधिक उम्र के बच्चों को 7 जून से वैक्सीन के लिए अपॉइंटमेंट मिल सकता है। उन्होंने आगे कहा कि जो लोग अपने बच्चों को कोरोना के खिलाफ टीका लगाना चाहते हैं, वे अगस्त से पहले यानी नए स्कूल सीजन से पहले वैक्सीन की दोनों खुराक ले सकेंगे। “माता-पिता के लिए संदेश यह है कि किसी भी बच्चे के लिए टीका अनिवार्य नहीं होगा,” मर्केल ने कहा। उन्होंने कहा कि छात्रों को स्कूलों में टीकाकरण की आवश्यकता नहीं होगी। साथ ही यह सोचना पूरी तरह गलत होगा कि आप केवल उसी बच्चे के साथ छुट्टी पर जा सकते हैं जिसे टीका लगाया गया हो।’

हार्ड इम्युनिटी की दिशा में महत्वपूर्ण कदम
बच्चों में टीकाकरण को महामारी के खिलाफ लड़ाई में सख्त प्रतिरक्षा बनने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम के रूप में देखा जा रहा है। मई में कनाडा के स्वास्थ्य मंत्री तेंदुलकर ने 12 से 16 साल के बच्चों के लिए फाइजर के कोरोना वैक्सीन को मंजूरी दी थी। इसके अलावा, संयुक्त राज्य अमेरिका सहित कई खाड़ी देशों में बच्चों का टीकाकरण किया जा रहा है। फाइजर ने मार्च के अंत में संयुक्त राज्य अमेरिका में 12 से 15 वर्ष की आयु के 2,260 स्वयंसेवकों के एक अध्ययन में प्रारंभिक परिणामों की घोषणा की। यह पाया गया कि टीका लगाए गए बच्चों में से किसी में भी कोरोना का मामला नहीं था।

एक और खबर भी है…
Updated: May 28, 2021 — 8:54 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Local Job Box © 2021 Frontier Theme