Local Job Box

Best Job And News Site

भारतीय सैनिकों ने निगरानी चौकियों की स्थापना की और शहर में ११०० डिग्री लावा बहने पर ६ लाख लोगों को बचाया; पूरी दुनिया में तालियाँ | भारतीय सैनिकों ने निगरानी चौकियों की स्थापना की और शहर में ११०० डिग्री लावा बहने पर ६ लाख लोगों को बचाया; पूरी दुनिया में तालियाँ

  • गुजराती समाचार
  • अंतरराष्ट्रीय
  • भारतीय सैनिकों ने निगरानी चौकियों की स्थापना की और 6 लाख लोगों को बचाया क्योंकि 1100 डिग्री लावा शहर में बह गया; पूरी दुनिया में तालियाँ

विज्ञापनों से परेशान हैं? विज्ञापनों के बिना समाचार पढ़ने के लिए दिव्य भास्कर ऐप इंस्टॉल करें

नई दिल्ली30 मिनट पहले minutesलेखक: मुकेश कौशिको

  • प्रतिरूप जोड़ना

कांगो ज्वालामुखी की फ़ाइल छवि

  • कांगो में १४,००० शांति रक्षक हैं, जिनमें से २०% भारतीय हैं
  • कांगो में ज्वालामुखी फटने के बाद भारतीय सैनिकों ने 1 घंटे में बचाई 3 जानें

न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में शनिवार को अंतर्राष्ट्रीय शांति दिवस मनाया गया। यह गर्व से भारतीय सेना के उन सैनिकों का नाम लेता है जो पिछले हफ्ते अफ्रीकी देश कांगो में फूटे निरागोंगो ज्वालामुखी में 1100 डिग्री सेल्सियस पर फट गए थे। भीषण गर्मी ने लाखों लोगों के साथ-साथ अन्य शांति सैनिकों को भी बचाया।

सेना के सूत्रों ने भास्कर को बताया कि संयुक्त राष्ट्र से एक चेतावनी मिली थी कि शांति सैनिकों को हटा लिया जाना चाहिए लेकिन भारतीय नेतृत्व ने लोगों की मदद के लिए एक तिहाई से अधिक सैनिकों को हिरासत में लिया था। सेना ने 1 घंटे में किए 3 बड़े फैसले पहला- हवाई संपत्तियों को स्थानांतरित किया जाता है। दूसरा, गोमा में तैनात 2,300 भारतीय सैनिकों में से 70% को हिम्बी में कंपनी के ऑपरेटिंग बेस पर भेजा जाएगा, और तीसरा, बाकी को खाली कैंपों, एविएशन बेस और एविएशन फ्यूल की सुरक्षा के लिए तैनात किया जाएगा। निगरानी चौकी बनाने का फैसला काफी कारगर साबित हुआ।

जानकार और साहसी सैनिकों के करतब
इस पोस्ट से भारतीय सेना को जल्द ही पता चल गया कि लावा किस तरफ से बह रहा है। गोमा की आबादी 6 लाख है। ज्वालामुखी फटने की आशंका फैल गई थी। लोग अपने घरों से पलायन कर रहे थे। भारतीय सेना ने उन्हें सतर्क किया कि पड़ोसी रवांडा से लावा बह रहा है। सेना ने लावा के संभावित मार्ग की पहचान की और उस मार्ग से नागरिकों को हटाने के लिए एक अभियान शुरू किया। यह अंतर्दृष्टि और रोमांच काम आया। अब कांगो में संयुक्त राष्ट्र शांति स्थापना मुख्यालय में स्थिति सामान्य हो रही है। कांगो में 14,000 शांति रक्षक हैं, जिनमें से लगभग 20% भारतीय हैं।

विश्व शांति में भारत: 49 मिशनों में 1.95 लाख सैनिकों की भूमिका
विश्व शांति अभियानों में भारत बिग ब्रदर है। चीन के सैनिक हमसे तीन गुना छोटे हैं। भारतीय सेना ने 73 वर्षों में 49 मिशनों में 1.95 लाख से अधिक सैनिक भेजे हैं, जो सबसे बड़ा योगदान है। इन मिशनों में 170 भारतीय जवान शहीद हुए हैं। वर्तमान में 10 मिशनों में 7,676 भारतीय सैनिक हैं।

पिछले 73 वर्षों में 4,000 शांति सैनिकों ने अपनी जान गंवाई है
29 मई, 1948 से अब तक 10 लाख सैनिकों ने 72 शांति अभियानों में सेवा दी है। दुनिया के 89,000 शांतिरक्षक 16 मिशनों पर हैं। पिछले ७३ वर्षों में, ४,००० से अधिक संयुक्त राष्ट्र शांतिरक्षक मिशन में शहीद हुए हैं। 2020 में सबसे ज्यादा मौतों की संख्या 130 थी।

एक और खबर भी है…
Updated: May 30, 2021 — 11:00 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Local Job Box © 2021 Frontier Theme