Local Job Box

Best Job And News Site

चीन में जानवरों को वायरस से संक्रमित किया गया था; वुहान लैब में 1000 से ज्यादा जानवरों के जीन भी बदले गए | ब्रिटिश पत्रकार ने कहा कि वुहान लैब में बंदरों और खरगोशों सहित 1 हजार जानवरों के जीन बदले गए; जानवरों को भी वायरस का इंजेक्शन लगाया गया था

वुहान१३ मिनट पहले

  • प्रतिरूप जोड़ना
  • एक शक्तिशाली सेना के निर्माण के लक्ष्य के साथ चीनी प्रयोगशालाओं में मनुष्यों पर प्रयोग भी किए गए

कोरोना महामारी की शुरुआत को लेकर चीन एक बार फिर दुनिया के निशाने पर आ गया है। चीनी शहर वुहान के खिलाफ एक और मुकदमा दायर किया जा रहा है। मिली जानकारी के मुताबिक वुहान की लैब में जेनेटिक इंजीनियरिंग की मदद से 1 हजार से ज्यादा जानवरों के जीन में बदलाव किया गया है. इस जानवर में बंदर और खरगोश भी शामिल हैं। पूरी दुनिया में वुहान से फैले कोरोना वायरस। लंबे समय से चीन में रहने वाले एक ब्रिटिश पत्रकार जैस्पर बेकर ने चीनी मीडिया में प्रकाशित कई रिपोर्टों के आधार पर एक रिपोर्ट तैयार की।

रिपोर्ट को स्थानीय समाचार पत्रों में प्राथमिकता के आधार पर प्रकाशित किया गया था। इसमें उल्लेख किया गया है कि एक चीनी लैब में जानवरों में वायरस के इंजेक्शन लगाए गए थे। जिससे उनके जीन में बदलाव होता है। माना जाता है कि इस प्रयोग के लिए इंजेक्शन के अंदर इस्तेमाल की गई सामग्री के प्रकार से कोरोनावायरस फैला है। इसके अलावा चीनी लैब में कई प्रयोग किए जा रहे हैं, जो दुनिया के अन्य देशों में प्रतिबंधित हैं। चीन में भी इंसानों पर प्रयोग हो रहे हैं, जो दूसरे देशों में अनैतिक है।

जीवित जानवरों पर प्रयोग किए गए
चीन यह कहने की कोशिश कर रहा है कि वुहान और अन्य जगहों पर लैब जैव सुरक्षा की खोज के लिए बनाई गई है। जिसमें उनकी सुरक्षा का भी ध्यान रखा जा रहा है। यहां देखा गया कि परखनली में रखे रोगजनक जीवों को देखकर बंदर भागते, काटते और काटते नजर आते हैं।

लैब में बीमार जानवर हैं, जिनमें से 605 चमगादड़ हैं
चीनी विशेषज्ञ ने वुहान लैब पर कई लेख लिखे हैं, जिनमें से एक का शीर्षक ‘कोरोना की संभावित उत्पत्ति’ है। इसने कहा कि वुहान सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन ने बीमार जानवरों को अपनी लैब में रखा। जिनमें से करीब 605 चमगादड़ हैं। ये चमगादड़ शोधकर्ताओं पर भी हमला करते हैं।

शी झेंगली ने कई चूहों को भी इस वायरस से संक्रमित किया था।  (फ़ाइल छवि)

शी झेंगली ने कई चूहों को भी इस वायरस से संक्रमित किया था। (फ़ाइल छवि)

दावा- महिला वायरोलॉजिस्ट ने बनाया कोरोना वायरस
कुछ चीनी विशेषज्ञों ने कहा कि वुहान के वायरोलॉजिस्ट शी झेंगली ने भी कुछ गुप्त गुफाओं का दौरा किया। जिसमें उन्होंने चमगादड़ों को एक्सप्लोर किया। चीन में झेंगली को ‘बैट वुमन’ के नाम से जाना जाता है। हो सकता है कि ज़ोंगली ने उसी लैब में कोरोनावायरस का उत्पादन किया हो, क्योंकि शी ज़ेंगली ने भी कई चूहों को वायरस से संक्रमित किया था।

लैब का रख-रखाव कर रही है चीनी सेना
रिपोर्ट के मुताबिक चीन की ज्यादातर खतरनाक लैब पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के तहत काम कर रही हैं. सेना 2 बातों का ध्यान रख रही है। पहला है जीन में बदलाव करके शक्तिशाली सैनिक बनाना और दूसरा है सूक्ष्म जीवों की खोज करना जिनका इस्तेमाल जैविक हथियार बनाने में किया जा सके।

एक और खबर भी है…
Updated: June 7, 2021 — 7:18 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Local Job Box © 2021 Frontier Theme