Local Job Box

Best Job And News Site

इस साल चीनी का निर्यात 42.5 लाख टन तक पहुंचा: AISTA | इस साल चीनी का निर्यात 42.5 लाख टन तक पहुंचा: AISTA

नई दिल्ली19 मिनट पहले

  • प्रतिरूप जोड़ना
  • चीनी निर्यात के मामले में ईरान के बजाय इंडोनेशिया दूसरे स्थान पर, एक रिकॉर्ड निर्यात अनुमान
  • बिना एक्सपोर्ट सब्सिडी के 2 लाख टन का एक्सपोर्ट एग्रीमेंट, देश में 305 लाख टन होगा प्रोडक्शन

इस साल देश से चीनी का निर्यात बढ़कर 42.5 लाख टन हो गया है। वैश्विक स्तर पर भारतीय बाजार के प्रतिस्पर्धी मूल्य और केंद्र सरकार से सब्सिडी के समर्थन के कारण निर्यात में तेजी से वृद्धि हुई है। ऐसे संकेत हैं कि वर्ष 2020-21 के दौरान देश से कुल 6 मिलियन टन से अधिक का निर्यात किया जाएगा।

उद्योग निकाय एआईएसटी के अनुसार, इंडोनेशिया का देश से सबसे अधिक निर्यात व्यापार है। अखिल भारतीय चीनी व्यापार संघ (एआईएसटीए) ने एक बयान में कहा कि इस साल जनवरी में खाद्य मंत्रालय द्वारा दिए गए 60 लाख टन कोटा के मुकाबले मिलों ने अब तक 58.5 लाख टन चीनी निर्यात अनुबंध पर हस्ताक्षर किए हैं। निर्यात कोटे के तहत लगभग 1.5 लाख टन चीनी का निर्यात किया जाना बाकी है और कुछ चीनी मिलें मिलों में शेष निर्यात मात्रा के लिए संघर्ष कर रही हैं।

चीनी विपणन वर्ष अक्टूबर से सितंबर तक चलता है। एआईएसटी के मुताबिक, मिलों ने 1 जनवरी से 7 जून 2021 तक कुल 42.5 लाख टन चीनी का निर्यात किया है। इस साल अब तक हुए कुल निर्यात में से इस साल अब तक का सबसे ज्यादा निर्यात इंडोनेशिया में 14 लाख टन हुआ है, इसके बाद अफगानिस्तान में 5,20,905 टन, यूएई में 4,36,917 टन और श्रीलंका में 3,24,113 टन का निर्यात हुआ है।

अनुमानित ३,५९,६६५ टन और अतिरिक्त ४,९८,४६२ टन चीनी पारगमन के साथ-साथ बंदरगाह-आधारित रिफाइनरियों को वितरित की जाती है। संयुक्त राज्य अमेरिका ने ईरान पर तेल प्रतिबंध हटा दिए हैं और ईरान को चीनी निर्यात करने की उम्मीद है। पिछले साल भारत का सबसे बड़ा चीनी निर्यातक ईरान को हुआ था।

ASTA के अध्यक्ष प्रफुल्ल विट्ठलनी ने कहा कि महाराष्ट्र एक महीने में घरेलू बाजार में आवंटित कोटा बेचने में विफल रहा है। सितंबर 2021 के अंत तक, चीनी वर्ष के अंत में स्टॉक 2 मिलियन टन से अधिक बेचा जा सकता था।

मानसून शुरू हो गया है जिससे चीनी की खपत में गिरावट आ सकती है। जल्दी से नमी को अवशोषित करता है। यह जरूरी है कि बंदरगाह क्षेत्रों में जमा चीनी या निर्यात के लिए बंदरगाह पर पहुंचने वाली चीनी को तुरंत खाली कर दिया जाए। हाजीरा पोर्ट ट्रस्ट ने बियरिंग के लिए चीनी के जहाजों को वरीयता देने का फैसला किया है, जबकि अन्य बंदरगाहों को भी इसी तरह के निर्देश जारी करने की आवश्यकता है।

देश में चीनी का उत्पादन लगातार बढ़ रहा है। उत्पादन बढ़ने से इस साल महाराष्ट्र में निर्यात भी बढ़ रहा है। प्रमुख व्यापारियों का कहना है कि इस साल गुजरात में उत्पादन करीब 12 लाख टन होगा।

ब्राजील में अच्छी फसलों के अनुमानित दाम गिरे
अंतरराष्ट्रीय चीनी कीमतों में थोड़ी नरमी आई है क्योंकि ब्राजील में बारिश की उम्मीदों ने चीनी उत्पादन में वृद्धि की संभावनाओं को मजबूत किया है। AISTA ने कहा कि बिना सब्सिडी चीनी का निर्यात शुरू हो गया है और अब तक लगभग 2 लाख टन का कारोबार किया जा चुका है। AISTA ने 2020-21 के विपणन वर्ष के लिए चीनी उत्पादन 305 लाख टन होने का अनुमान लगाया है।

एक और खबर भी है…
Updated: June 11, 2021 — 10:50 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Local Job Box © 2021 Frontier Theme