Local Job Box

Best Job And News Site

ब्रिटेन ने मोटापे से लड़ने का फैसला किया: जंक फूड का विज्ञापन ऑनलाइन नहीं दिखाया गया, रात 9 बजे से पहले टीवी पर प्रतिबंध | ब्रिटेन ने मोटापे से लड़ने का फैसला किया: जंक फूड का विज्ञापन ऑनलाइन नहीं दिखाया गया, रात 9 बजे से पहले टीवी पर प्रतिबंध

लंडनतीन घंटे पहले

  • प्रतिरूप जोड़ना
  • बच्चों और किशोरों को स्वस्थ रखने के लिए व्यायाम, ब्रिटेन में 2023 से नए नियम

लोगों में बढ़ते मोटापे पर लगाम लगाने की कई कोशिशें नाकाम होने के बाद ब्रिटिश सरकार ने एक बड़ा फैसला लिया है। इसके तहत 2023 से ब्रिटेन में जंक फूड का विज्ञापन ऑनलाइन नहीं दिखाया जाएगा। साथ ही इसे टीवी पर रात 9 बजे से पहले और सुबह 5:30 बजे के बाद प्रसारित नहीं किया जा सकता है। ऐसे विज्ञापनों को लाइव और ऑन-डिमांड कार्यक्रमों में भी प्रतिबंधित किया जाएगा। यह अभ्यास अगले साल के अंत तक शुरू हो जाएगा।

ब्रिटेन के स्वास्थ्य और सामाजिक देखभाल विभाग ने गुरुवार को इसकी घोषणा की। इस फैसले से चॉकलेट, बर्गर, कोल्ड ड्रिंक्स, केक, पिज्जा और आइसक्रीम के विज्ञापनों पर असर पड़ेगा। दरअसल ब्रिटेन में मोटापे की समस्या तेजी से बढ़ रही है। मोटापा भी कोरोना में मौत का एक प्रमुख कारण है, यही वजह है कि पीएम बोरिस जोनस ने इसे प्राथमिकता दी है। ये कड़े प्रतिबंध पीएम के नेतृत्व में लाए गए हैं। वह खुद बमुश्किल कोरोना से बचे हैं। ऐसे में वे मोटापे से लड़ने के लिए कमर कस रहे हैं। अस्पतालों में मुश्किल समय बिताने के बाद उन्होंने इसे एक चुनौती के रूप में लिया।

इसके तहत एक साथ मुफ्त ऑफर पर अप्रैल 2021 से जंक फूड पर प्रतिबंध लगाने का प्रस्ताव किया गया था। उसके दिमाग में तभी से टीवी विज्ञापन चल रहे हैं। हाल के फैसले के बारे में ब्रिटेन के जन स्वास्थ्य मंत्री जो चर्चिल का कहना है कि किशोरों और बच्चों द्वारा देखी जाने वाली सामग्री उनकी पसंद को प्रभावित करती है।

वे वर्तमान में अपना अधिकांश समय ऑनलाइन व्यतीत करते हैं। उन्हें हानिकारक विज्ञापनों से बचाना हमारी जिम्मेदारी है। ब्रिटिश हार्ट फाउंडेशन के सीईओ कारमाइन ग्रिफिथ के अनुसार, बच्चों को जंक फूड के विज्ञापनों के प्रभाव से बचाने की दिशा में इस तरह का प्रतिबंध एक साहसिक और अत्यंत सकारात्मक कदम है।

ब्रिटेन के ओबेसिटी हेल्थ अलायंस द्वारा इस साल किए गए एक विश्लेषण के अनुसार, ऐसे विज्ञापनों पर प्रतिबंध लगाने से बच्चों के आहार से 150 मिलियन चॉकलेट और 41 मिलियन चीज़बर्गर हटाने का लाभ हो सकता है।

वर्तमान में ब्रिटिश बच्चे सबसे अधिक मोटे हैं, जो उनके स्वास्थ्य को खतरे में डाल रहे हैं
ब्रिटेन के एनएचएस के मुताबिक देश की 60 फीसदी वयस्क आबादी मोटापे से जूझ रही है। प्राथमिक विद्यालय छोड़ने के समय तक 3 में से 1 बच्चा अधिक वजन का होता है। ब्रिटेन में बच्चे इस समय सबसे अधिक मोटे हैं। 11 वर्ष से अधिक उम्र के पांच बच्चों में से एक का वजन अधिक है। देश में 1.11 लाख बच्चे गंभीर रूप से मोटे हैं। उन्हें मधुमेह, हृदय और स्ट्रोक हो सकता है। इस समस्या पर अंकुश लगाने के लिए 2018 में चीनी कर पेश किया गया था। रॉयल कॉलेज ऑफ पीडियाट्रिक्स के विशेषज्ञों का कहना है कि चीनी की दैनिक आवश्यकता का 70% अभी भी एक कटोरी स्नैक्स में है जिसे नियंत्रित करने की आवश्यकता है।

एक और खबर भी है…
Updated: June 25, 2021 — 1:06 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Local Job Box © 2021 Frontier Theme