Local Job Box

Best Job And News Site

हाई-टेक रोबोट खाद्य-किराने का सामान वितरित करता है; इससे वेटिंग टाइम 5-15 गुना कम होगा, शिक्षण संस्थान में रोबोट स्टोर की तैयारी भी | हाई-टेक रोबोट खाद्य-किराने का सामान वितरित करता है; इससे वेटिंग टाइम 5-15 गुना कम हो जाएगा, यहां तक ​​कि शिक्षण संस्थान में रोबोट स्टोर की तैयारी भी

  • गुजराती समाचार
  • अंतरराष्ट्रीय
  • हाई टेक रोबोट खाद्य किराने का सामान वितरित करता है; इससे वेटिंग टाइम में 5 15 गुना की कमी आएगी, यहां तक ​​कि शिक्षण संस्थान में रोबोट स्टोर की तैयारी

सिंगापुर43 मिनट पहले

  • प्रतिरूप जोड़ना

डिलीवरी रोबोट की तस्वीर

  • यहां तीन क्षेत्रों में रोबोट डिलीवरी का सफलतापूर्वक परीक्षण किया गया है
  • 80 किलो वजनी रोबोट वाहन, बिना ऑर्डर प्रूफ OTP के कोई सामान नहीं हटाया जा सकता

सिंगापुर में कोरोना ने ड्राइवरलेस डिलीवरी के सपने को हकीकत में बदल दिया है। फिलहाल यहां सड़क पर रोबोट नजर आ रहे हैं जो रोजमर्रा की जरूरत से लेकर खाने-पीने की चीजें पहुंचा रहे हैं। सरकार ने पुंगगोल में दो रोबोट की मदद से फरवरी में ट्रायल शुरू किया था, जिसमें 700 घर हैं। फूड पांडा कंपनी ने इसके बाद 200 हेक्टेयर के नानयांग टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी में भोजन और किराना उत्पादों की डिलीवरी के लिए 4 रोबोट तैनात किए। फूडपांडा की प्रतिद्वंद्वी कंपनी ग्रैब ने रेस्तरां में डिलीवरी के लिए रोबोट रनर सेवा शुरू करने की घोषणा की है।

रोबोट एक वाहन में 100 बॉक्स ला सकता है
फूडपांडा के प्रवक्ता का कहना है कि कॉन्टैक्टलेस डिलीवरी समय की मांग है। यह हमें उचित मूल्य पर अपने ग्राहकों को अधिक कुशलता से सेवा प्रदान करने में सक्षम बनाएगा। ट्रायल नवंबर तक चलेगा। हमें उम्मीद है कि उसके बाद पूरे सिंगापुर में रोबोट की डिलीवरी होगी। अनुमान है कि इससे वेटिंग टाइम में 5-15 मिनट की कमी आएगी। एक रोबोट वाहन में 100 बॉक्स तक हो सकते हैं। एनटीयू में स्थापित मोबिलिटी रोबोट को भी भविष्य में राष्ट्रीय विश्वविद्यालय के कर्मचारियों और छात्रों की सुविधा के लिए मोबाइल स्टोर में बदलने की योजना है। जुलाई से अक्टूबर तक ट्रायल के बाद फैसला लिया जाएगा।

रोबोट ने बनाए हैं खास ट्रैक
इस तरह सिंगापुर में तीन अलग-अलग इलाकों में रोबोट की डिलीवरी चल रही है। ये तीनों विभिन्न तकनीकों पर आधारित हैं। फूडपांडा की फूडबोट एआई चलाती है। इसके लिए स्पेशल ट्रैक बनाए गए हैं। उस पर चलता है। इसमें लगा कैमरा आंख की तरह काम करता है और सॉफ्टवेयर दिमाग की तरह काम करता है। पुंगपोर में 700 निवासियों के बीच प्रयोग सफल रहा। रोबोट बनाने वाली कंपनी के प्रवक्ता का कहना है कि न केवल युवा बल्कि बुजुर्ग भी ऑर्डर दे रहे हैं। दूसरे इलाकों के लोग ट्रायल की मांग कर रहे हैं। हमने इसके लिए आवेदन किया है। इस रोबोट में उन्नत तकनीक है। इस वजह से ग्राहकों के साथ दुर्घटना और धोखाधड़ी का जोखिम शून्य है। Neolix L-4 रोबोट में कई सेंसर हैं जैसे LIDAR, 9 कैमरे, 14 अल्ट्रासोनिक सेंसर और रडार।

और भी खबरें हैं…
Updated: July 4, 2021 — 11:24 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Local Job Box © 2021 Frontier Theme