Local Job Box

Best Job And News Site

दुनिया के सबसे उम्रदराज पहलवान ने 13 किलो चमड़े की पतलून पहनकर तेल में सराबोर कर 2160 पहलवानों में स्वर्ण बेल्ट जीतने के लिए भाग लिया | दुनिया की सबसे उम्रदराज पहलवान ने 13 किलो चमड़े की पतलून पहनकर तेल में डुबकी लगाई और 2160 पहलवानों में स्वर्ण बेल्ट जीतने के लिए भाग लिया।

  • गुजराती समाचार
  • खेल
  • दुनिया के सबसे उम्रदराज पहलवान ने 13 किलो चमड़े की पतलून पहनकर तेल में सराबोर कर 2160 पहलवानों में लिया गोल्डन बेल्ट जीतने का हिस्सा

ओडिर्न3 मिनट पहले

  • प्रतिरूप जोड़ना
  • तुर्की की राष्ट्रीय खेल तेल कुश्ती, जो पिछले 660 वर्षों से नियमित रूप से खेली जाती रही है

तुर्की के एडिरने में एक अनोखी कुश्ती प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। यह कुश्ती इतनी खास है कि इसमें भाग लेने के लिए सभी पहलवानों को 13 किलो वजन की चमड़े की पतलून पहननी होगी। फिर इन सबको तेल या ग्रीस से नहलाना है। वास्तव में यह कुश्ती तुर्की का राष्ट्रीय खेल है।

प्रतियोगिता पहली बार 13 वीं शताब्दी में आयोजित की गई थी। इस साल इस ऐतिहासिक खेल की 660वीं वर्षगांठ है। स्थानीय लोगों के अनुसार कुश्ती प्रतियोगिता जून के अंत या जुलाई की शुरुआत में आयोजित की जाती है। इसके लिए लोग महीनों से तैयारी कर रहे थे। इसमें 15 साल से अधिक उम्र के लोग शामिल होते हैं। कुश्ती के दौरान डॉक्टरों की टीम भी तैनात रहती है। इस साल भी तेल कुश्ती बहुत धूमधाम से मनाई गई, जिसे देखने के लिए हजारों की संख्या में लोग उमड़ पड़े।

खास बात यह है कि तुर्की का यह खेल देश को समर्पित है। यह हर साल तुर्की सेना के उत्साह को बनाए रखने के लिए आयोजित किया जाता है। इस कुश्ती के विजेता को गोल्डन बेल्ट और टाइटल दिया जाता है।

आयोजकों के मुताबिक इस कुश्ती मुकाबले का समय 40 मिनट था। यदि कोई विजेता नहीं होता, तो दोनों पहलवान फिर से 15 मिनट तक कुश्ती करते। हालांकि, 1975 में उस समय को घटाकर 30 मिनट कर दिया गया था। साथ ही 15 मिनट का समय भी घटाकर 10 मिनट कर दिया गया।

42 वर्षीय चैंपियन अली यूनेस्को की विश्व विरासत सूची में भी शामिल हैं
राष्ट्रीय उत्सव के तहत 3 दिनों में इस कुश्ती में 2160 पहलवानों ने हिस्सा लिया। 42 साल के अली गुरबेज ने इस्माइल को हराकर गोल्डन बेल्ट का खिताब अपने नाम किया। उन्होंने यह जीत लगातार दूसरे साल हासिल की है। इस खेल को इसकी लोकप्रियता और ऐतिहासिक महत्व के कारण 2010 में यूनेस्को की विश्व विरासत सूची में भी अंकित किया गया था।

एक और खबर भी है…
Updated: July 13, 2021 — 12:37 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Local Job Box © 2021 Frontier Theme