Local Job Box

Best Job And News Site

अनंत को 2 नई कंपनियों की जिम्मेदारी मिलने के बाद रिलायंस के उत्तराधिकारी पर चर्चा तेज; भाई से झगड़े से मुकेश ने सीखा सबक? | अनंत को 2 नई कंपनियों की जिम्मेदारी मिलने के बाद रिलायंस के उत्तराधिकारी पर चर्चा तेज; भाई से झगड़े से मुकेश ने सीखा सबक?

  • गुजराती समाचार
  • डीवीबी मूल
  • अनंत को 2 नई कंपनियों की जिम्मेदारी मिलने के बाद रिलायंस के उत्तराधिकारी पर चर्चा तेज; भाई से झगड़े से मुकेश ने सीखा सबक?

19 मिनट पहले

  • प्रतिरूप जोड़ना
  • 26 साल के अनंत अंबानी को हाल ही में दो नई सोलर कंपनियों का डायरेक्टर बनाया गया है
  • 2020 में, इन्फिनिटी रिलायंस जियो के बोर्ड में शामिल हो गई, जिसमें पहले से ही ईशा और आकाश हैं

मुकेश अंबानी के सबसे छोटे बेटे चर्चा में हैं। 26 साल के अनंत अंबानी को नई जिम्मेदारी मिली है। 5 जुलाई को उन्हें रिलायंस न्यू एनर्जी सोलर और रिलायंस न्यू सोलर एनर्जी का निदेशक नियुक्त किया गया। फरवरी में उन्हें रिलायंस ऑयल टू केमिकल्स का निदेशक नियुक्त किया गया था। वह जियो प्लेटफॉर्म्स के बोर्ड में अतिरिक्त निदेशक भी हैं।

पिता के कारोबार में पहले से ही कई जिम्मेदारियां संभालने वाली इनफिनिटी की नई जिम्मेदारी ने सबका ध्यान खींचा है. मुकेश अंबानी के उत्तराधिकारी को लेकर निवेशकों के बीच चर्चा तेज हो गई है. बहस और भी बड़ी है क्योंकि मुकेश अंबानी के तीन बच्चे हैं और अंबानी परिवार में बिजनेस शेयरिंग का इतिहास कड़वा रहा है।

अगर धीरूभाई ने वसीयत नहीं लिखी होती तो मुकेश और अनिल के बीच तनाव होता
मुकेश अंबानी 1981 में रिलायंस से जुड़े और 1983 में अनिल अंबानी। जुलाई 2002 में धीरूभाई अंबानी का निधन हो गया। उन्होंने वसीयत नहीं लिखी। रिलायंस ग्रुप के चेयरमैन मुकेश अंबानी और अनिल अंबानी प्रबंध निदेशक बने। नवंबर 2004 में मुकेश और अनिल के बीच अनबन हो गई थी। धीरूभाई अंबानी की पत्नी कोकिलाबेन भी परिवार में चल रहे विवाद से खफा थीं.

जून 2005 में दोनों ने संपत्ति साझा की, लेकिन कौन-सी कंपनी लेगी कौन-सा भाई? उनका फैसला 2006 तक चला। आईसीआईसीआई बैंक के तत्कालीन अध्यक्ष वीके कामत को भी विभाजन में हस्तक्षेप करना पड़ा था।

विभाजन के बाद, मुकेश अंबानी पेट्रोकेमिकल बिजनेस, रिलायंस इंडस्ट्रीज, इंडियन पेट्रोकेमिकल्स कॉर्प लिमिटेड, रिलायंस पेट्रोलियम, रिलायंस इंडस्ट्रियल इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड जैसी कंपनियों से जुड़ गए। छोटे भाई ने अनिल धीरूभाई अंबानी ग्रुप बनाया। इसमें आरकॉम, रिलायंस कैपिटल, रिलायंस एनर्जी, रिलायंस नेचुरल रिसोर्सेज जैसी कंपनियां थीं। तब से मुकेश अंबानी का कारोबार नई ऊंचाइयों पर पहुंच गया है, लेकिन अनुल अंबानी की किस्मत ने उनकी मदद नहीं की है।

मुकेश अंबानी के बच्चों को भविष्य में ऐसी स्थिति का सामना नहीं करना पड़ेगा, इसलिए केवल 26 वर्षीय अनंत अंबानी को नई जिम्मेदारियां दी जा रही हैं। ईशा और आकाश 2014 से रिलायंस में काम कर रहे हैं और कंपनी के लिए कई इवेंट्स को लीड कर रहे हैं।

आकाश-ईशा पहले से हैं शामिल, इनफिनिटी को नई जिम्मेदारियां

1. आकाश अंबानी: 2014 में ब्राउन यूनिवर्सिटी से अर्थशास्त्र में डिग्री। इसके बाद वह फैमिली बिजनेस से जुड़ गए। जियो प्लेटफॉर्म्स, जियो लिमिटेड, सावन मीडिया, जियो इन्फोकॉम, रिलायंस रिटेल वेंचर्स के बोर्ड में शामिल हों।

2. ईशा अंबानी: येल और स्टैनफोर्ड से पढ़ाई की। 2015 में फैमिली बिजनेस से जुड़े। जियो प्लेटफॉर्म्स, जियो लिमिटेड, रिलायंस रिटेल वेंचर्स के बोर्ड में है। ईशा की शादी दिसंबर 2018 में बिजनेसमैन अजय पीरामल के बेटे आनंद पीरामल से हुई थी।

3. अनंत अंबानी: ब्राउन यूनिवर्सिटी, यूएसए से पढ़ाई की। रिलायंस न्यू एनर्जी, रिलायंस न्यू सोलर एनर्जी, रिलायंस ओ2सी, जियो प्लेटफॉर्म्स के बोर्ड में शामिल हैं।

भविष्य की योजनाएँ: 5G रोलआउट, ऑनलाइन रिटेल और हरित ऊर्जा पर ध्यान दें

अंबानी और उनके बच्चों ईशा और आकाश ने जुलाई 2020 में रिलायंस की एजीएम यानी शेयरधारकों की वार्षिक बैठक में भविष्य की योजना की एक झलक दी। उन्होंने कहा कि 2021-22 में 5जी वायरलेस नेटवर्क और एक वीडियो स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म लाएगा। यह नेटफ्लिक्स डिज़नी प्लस हॉटस्टार, अमेज़न प्राइम वीडियो और टीवी चैनलों को एक छत के नीचे लाएगा।

जून 2021 में एजीएम में बोलते हुए, मुकेश अंबानी ने कहा कि रिलायंस अगले तीन वर्षों में अपने ई-कॉमर्स उद्यम JioMart में एक करोड़ से अधिक व्यापारी भागीदारों को जोड़ने की योजना बना रहा है। अंबानी ने कहा कि रिलायंस वैल्यू चेन पार्टनरशिप और फ्यूचर टेक्नोलॉजी पर 15,000 करोड़ रुपये का निवेश करेगी।

रिलायंस हरित ऊर्जा क्षेत्र में 75,000 करोड़ रुपये का निवेश करेगी। कंपनी अगले 10 वर्षों में 100 गीगावाट सौर ऊर्जा उत्पादन का लक्ष्य लेकर चल रही है। इसके लिए गुजरात के जामनगर में धीरूभाई ग्रीन एनर्जी कॉम्प्लेक्स शुरू किया जाएगा।

द बिलियनेयर राज: ए जर्नी थ्रू इंडियाज न्यू गिल्डेड एज के लेखक जेम्स क्रैब्री के अनुसार, अंबानी की सबसे बड़ी चुनौती अब नए निवेश पर रिटर्न प्राप्त करना है। अंबानी जिन उद्योगों पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं, वे रिफाइनिंग और पेट्रोकेमिकल व्यवसाय की तुलना में बहुत अच्छा कर रहे हैं। जैसे-जैसे वह बूढ़ा हो रहा है, अंबानी को ‘प्रमुख व्यक्ति’ होने का भी खतरा है।

मुकेश का उत्तराधिकारी तय करेगी परिवार परिषद!
2020 में, लाइव मिंट ने एक रिपोर्ट में दावा किया कि मुकेश अंबानी एक परिवार परिषद बनाने जा रहे थे। रिपोर्ट के मुताबिक, इस कदम का मकसद रिलायंस इंडस्ट्रीज का उत्तराधिकारी तय करना है। इसमें तीनों बच्चों के साथ परिवार के वरिष्ठ सदस्य शामिल होंगे। सलाहकार और सलाहकार भी होंगे।

दावा किया जा रहा है कि अगले साल के अंत तक सक्सेसर प्लान पर काम करने का खाका तैयार हो जाएगा। हालांकि, रिलायंस समूह के प्रवक्ता ने आरोपों से इनकार किया। उन्होंने कहा कि यह पूरी तरह से कल्पना पर आधारित है।

अनिल अंबानी के दोनों बेटे भी फैमिली बिजनेस चला रहे हैं

अनमोल (बाएं) और अंशुल (दाएं) अपनी मां टीना अंबानी के साथ।

अनमोल (बाएं) और अंशुल (दाएं) अपनी मां टीना अंबानी के साथ।

मुकेश अंबानी के छोटे भाई अनिल अंबानी के दो बेटे हैं। बड़े बेटे का नाम जय अनमोल और मामा के बेटे का नाम जय अंशुल है। अनमोल ने अपनी पढ़ाई मुंबई के जॉन केनन स्कूल से शुरू की और बाद में आगे की पढ़ाई के लिए यूके चली गईं। उन्होंने वारविक बिजनेस स्कूल से स्नातक किया। इसे 2016 में रिलायंस कैपिटल के बोर्ड में जोड़ा गया था। नाद में उन्हें रिलायंस इंफ्रा का निदेशक बनाया गया था। हालांकि, उन्होंने छह महीने के भीतर इस्तीफा दे दिया।

अनिल के सबसे छोटे बेटे अंशुले ने न्यूयॉर्क यूनिवर्सिटी से स्टर्न स्कूल ऑफ बिजनेस मैनेजमेंट की पढ़ाई की है। अपने भाई की तरह वह भी रिलायंस कैपिटल के बोर्ड में हैं। बिजनेस स्टैंडर्ड की एक रिपोर्ट के मुताबिक, यह जल्द ही रिलायंस के रक्षा कारोबार में एक भूमिका निभाएगा।

एक और खबर भी है…
Updated: July 17, 2021 — 8:47 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Local Job Box © 2021 Frontier Theme